Now Reading
सावन का आखिरी साेमवार-मंदिराें में सुबह से भीड़, बम-बम भाेले से गूंजे शिवालय

सावन का आखिरी साेमवार-मंदिराें में सुबह से भीड़, बम-बम भाेले से गूंजे शिवालय

ग्वालियर। सावन माह के आखिरी साेमवार काे सुबह से ही मंदिराें में खासी भीड़ लगी रही। शिवालयाें में बम-बम भाेले की गूंज रही। खास बात ये है कि आज रवि याेग एवं पुत्रदा एकादशी का संयाेग भी बन रहा है। श्री अचलेश्वर महादेव मंदिर, कोटेश्वर महादेव मंदिर, गुप्तेश्वर मंदिर, भूतेश्वर मंदिर, मंगलेश्वर व हजारेश्वर पर सुबह 4 बजे से भक्ताें की कतार लगना शुरू हाे गई थी। आज का दिन पुत्रदा एकादशी के कारण काफी खास है। सावन माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी को पुत्रदा एकादशी व्रत रखा जाता है। ऐसे में एकादशी व सोमवार व्रत होने से इस दिन का महत्व और बढ़ गया है। ज्योतिषाचार्य सुनील चौपड़ा ने बताया कि ज्योतिष शास्त्र में रवि योग को शुभ व मांगलिक कार्यों के लिए अति उत्तम माना गया है। आज सुबह 5 बजकर 46 मिनट से दोपहर 2 बजकर 37 मिनट तक रवि योग है।

सावन मास की समाप्ति 12 अगस्त, को होगी। सावन के प्रत्येक सोमवार काे भगवान शिव की पूजा का खास महत्व है। सावन सोमवार का व्रत कई गुना अधिक पुण्यदायी माना गया है। धार्मिक मान्यता के चलते लाेगाें ने सावन के चौथे सोमवार का व्रत रखकर शिवलिंग का जलाभिषेक और रुद्राभिषेक किया।

View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll To Top