Now Reading
कंगना रनोट पर नवाब मलिक के विवादित बोल; कहा- उन्होंने मलाना क्रीम की ओवरडोज ली

कंगना रनोट पर नवाब मलिक के विवादित बोल; कहा- उन्होंने मलाना क्रीम की ओवरडोज ली

महाराष्ट्र के मंत्री और NCP नेता नवाब मलिक ने शुक्रवार को अपनी डेली प्रेस कॉन्फ्रेंस की। मलिक ने इस बार कंगना रनोट के भारत को 2014 में आजादी मिलने वाले बयान पर निशाना साधा। मलिक ने कहा कि कंगना ने हिमाचल में बनने वाली ड्रग मलाना क्रीम का एक डोज ज्यादा ले लिया है। इसलिए वे इस तरह की बहकी हुई बातें कर रही हैं। कंगना रनोट ने पद्मश्री मिलने के बाद कहा था कि भारत को आजादी 2014 में मिली थी।

क्या है मलाना क्रीम?
हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले में मलाना घाटी से आने वाली चरस या हैश को मलाना क्रीम कहते हैं। चरस, जिसे हिमाचल प्रदेश के भांग भी कहते हैं, उसे कैनाबिस पौधे के रेसिन से निकाला जाता है। यह पौधा घाटी में प्रकृतिक तरीके से उगता है और यहां इसकी अवैध खेती भी की जाती है। इस घाटी में एक अकेला गांव है- मलाना। यहां पर कैनाबिस पौधे से निकाले जाने वाला रेसिन क्रीम या चिकनी मिट्‌टी जैसा होता है, इसलिए इसे मलाना क्रीम कहते हैं। राज्य के अन्य हिस्सों में मिलने वाली चरस ऐसी नहीं होती है।

मुंबई पुलिस ने पिछले 3 साल में 3414 किलो ड्रग्स जब्त की

मुंबई पुलिस ने पिछले 3 साल में 3414 किलो ड्रग्स जब्त की है। इसमें से 2593 किलो की जब्ती 2021 में ही हुई है। मुंबई पुलिस ने RTI के तहत यह जानकारी दी है। 25 अक्टूबर तक जब्त की गई ड्रग्स की कीमत 83.13 करोड़ रुपये है। मुंबई पुलिस ने 2019 में 25.28 करोड़ और 2020 में 22.23 करोड़ रुपये की ड्रग्स पकड़ी थीं। इस लिहाज से इस साल पिछले साल की तुलना में तीन गुना से भी ज्यादा ड्रग्स पकड़ी गई हैं।

पकड़ी गई ड्रग्स में कैनेबी, हशीश, एमडी, कोकीन, एमडीएमए, कोडीन, अफीम, एलएसडी पेपर, एल्परजोम और नेट्रावेट टैबलेट शामिल हैं। RTI के मुताबिक पिछले 3 साल के मुकाबले इस साल 7 गुना ज्यादा कार्रवाई हुई है। इस दौरान मुंबई पुलिस ने 208 ड्रग्स विरोधी मामले दर्ज किए हैं और 298 आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

मुंबई पुलिस ने नहीं दी 2019 और 2020 डिस्पोजल की जानकारी
RTI एक्टिविस्ट अनिल गलगली ने मुंबई पुलिस से पिछले तीन साल में जब्त किए गए ड्रग्स की जब्ती और नष्ट करने के बारे में जानकारी मांगी थी। मुंबई पुलिस ने उन्हें वर्ष 2019 और 2020 की सूचना नहीं दी है। जबकि साल 2021 में 248 किलोग्राम ड्रग्स नष्ट करने की बात कही है। अनिल गलगली ने कहा कि उन्हें संदेह था कि मुंबई पुलिस में कुछ लोग जब्त की गई ड्रग्स को फिर से दूसरों को बेच रहे हैं, इसलिए उन्होंने यह आरटीआई दाखिल की थी।

अनिल ने कहा,”यह आवश्यक है, प्रत्येक कार्रवाई के बाद जब्त किए गए ड्रग्स का विवरण सार्वजनिक किया जाना चाहिए, ताकि आम मुंबईवासी भी ड्रग्स के खिलाफ चल रहे युद्ध में योगदान दे सकें।”

View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll To Top