Now Reading
अंततः पंजाब काँग्रेस की कमान सिद्दू के हाथ आयी

अंततः पंजाब काँग्रेस की कमान सिद्दू के हाथ आयी

नवजोत सिंह सिद्धू को आखिरकार कांग्रेस का पंजाब प्रदेश अध्यक्ष चुन लिया गया है. इसके साथ-साथ चार वर्किंग प्रेसिडेंट बनाए गए हैं. इसके लिए केसी वेणुगोपाल की तरफ से पत्र जारी किया गया.

गौरतलव है कि मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच शुरू से ही टकराव चलता आ रहा था । इसके चलते सिद्धू को अमरिंदर मंत्रिमंडल से इस्तीफा देना पड़ा था और तब से ये दोनों एक दूसरे पर अपरोक्ष रूप से तंज कसते रहते थे ।

 

पंजाब में आगामी कुछ महीनों में चुनाव का बिगुल फूंका जाना है । हालांकि वहां फिलहाल परिस्थितियां कांग्रेस के पक्ष में है। किसान आंदोलन का सबसे बड़ा असर पंजाब में देखने को मिल रहा है इसके चलते भाजपा और अकाली दल को जमीनी स्तर पर यहां दिक्कतों का।सामना करना पड़ रहा है । इसका फायदा उठाने के लिए आप पार्टी यहां जुटी हुई है लेकिन उसके पास लीडर का अभाव है । इन परिस्थितियों में माना जा रहा है कि पंजाब में कांग्रेस फिर से सत्ता में वापिसी कर सकती है लेकिन इस उम्मीद में सबसे बड़ा  रोड़ा सिद्दू बनाम अमरिंदर के बीच की जंग ने परेशान कर रखा था । सोनिया गांधी,राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के अलावा हरीश रावत ने भी इस तकरार को टालकर पार्टी को संकट से बचाने में महती भूमिका अदा की।

View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll To Top