Now Reading
वैक्सीनेशन में गंभीर चूक:महिला को पहला डोज कोवीशील्ड तो दूसरा कोवैक्सिन का लगाया; मैसेज देखते ही आए चक्कर और होने लगी घबराहट, बुलाई पुलिस

वैक्सीनेशन में गंभीर चूक:महिला को पहला डोज कोवीशील्ड तो दूसरा कोवैक्सिन का लगाया; मैसेज देखते ही आए चक्कर और होने लगी घबराहट, बुलाई पुलिस

ग्वालियर में वैक्सीनेशन में गंभीर लापरवाही सामने आई है। एक महिला को दो अलग-अलग टीके लगा दिए हैं। महिला को पहला डोज 11 अप्रैल को कोवीशील्ड का लगाया गया था। रविवार को वैक्सीन का दूसरा डोज लगना था। जब महिला वैक्सीनेशन सेंटर पहुंची तो यहां उसका नया रजिस्ट्रेशन कर उसे कोवीशील्ड की जगह कोवैक्सिन का पहला डोज लगा दिया गया।

महिला घर पहुंची और मोबाइल पर मैसेज देखा तो गलत वैक्सीन लगने का पता लगा। इसके बाद महिला को चक्कर आए और घबराहट होने लगी। घटना हजीरा स्थित सिविल हॉस्पिटल की है। घटना की खबर मिलते ही वहां भीड़ लग गई। पुलिस और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए। महिला के परिजन का आरोप है कि एक तो गलत टीका लगा दिया और ऊपर से सेंटर पर कर्मचारी ठीक से बात भी नहीं कर रहे हैं।

उपनगर ग्वालियर के गोसपुरा नंबर-1 निवासी पूनम देवी (55) पत्नी स्व.चन्द्रपाल सिंह चौहान ने कोरोना से बचाव के लिए 11 अप्रैल को टीका लगवाया था। उन्होंने हजीरा सिविल अस्पताल में कोवीशील्ड वैक्सीन का पहला डोज लगवाया था। 84 दिन बाद वह दूसरे डोज के लिए प्रयास कर रही थीं। 1 अगस्त को वह सिविल हॉस्पिटल पहुंची और यहां ऑनस्पॉट स्लॉट बुक किया। यहां उनको रजिस्ट्रेशन विंडो से एंट्री कर एक स्लिप दी गई। अंदर वैक्सीनेशन रूम में पहुंची यहां बैठी नर्स ने पर्ची देखकर उनको कोवैक्सिन का पहला डोज लगा दिया।

जब पूनमदेवी घर पहुंची और उनके बेटे सौरभ ने मोबाइल पर मैसेज देखा तो गलत वैक्सीन लगने का खुलासा हुआ। गलत वैक्सीन लगने का पता चलते ही पूनम देवी को चक्कर आने लगे और घबराहट होने लगी। तत्काल परिजन उनको लेकर सिविल अस्पताल पहुंचे और बात की। पर यहां सेंटर पर काम कर रहे कर्मचारी सुनने को तैयार ही नहीं थे। हंगामा बढ़ा तो पुलिस बुलानी पड़ी।

महिला का आरोप

पूनमदेवी ने आरोप लगाया है कि टीकाकरण का काम देख रहे स्टाफ की लापरवाही है। जब पहला डोज कोवीशील्ड का लगा है तो दूसरा डोज कोवैक्सिन का क्यों लगाया गया, जबकि मैंने पहले डोज के समय जो आधार कार्ड और अपना मोबाइल नंबर दिया था। वही आधार कार्ड और मोबाइल नंबर अभी दिया है।

हजीरा थाना से सिविल अस्पताल पहुंचे दीवान सुरेन्द्र सिंह का कहना है कि गलत वैक्सीन लगने और हंगामे की जानकारी मिली थी। यहां जांच के बाद मामला सुलझ गया है। सुरेन्द्र सिंह का कहना है कि अभी किसी ने लिखित शिकायत नहीं की है।

डॉ. आरके गुप्ता का कहना है कि कोवीशील्ड का पहला डोज लगने के बाद महिला को दूसरा डोज यदि कोवैक्सिन का लगा है तो यह लापरवाही है, लेकिन महिला को घबराने की जरूरत नहीं है। 28 दिन बाद वह अब कोवैक्सिन का दूसरा डोज ले सकती हैं। जिससे उनका वैक्सीनेशन पूरा हो जाएगा। साथ ही वैक्सीन बदलने से उनको कोई खतरा नहीं है।

View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll To Top