Now Reading
बाजवा को पार्टनर बनाकर कैप्टन ने खेला नया दांव, मुश्किल में सिद्धू की ताजपोशी

बाजवा को पार्टनर बनाकर कैप्टन ने खेला नया दांव, मुश्किल में सिद्धू की ताजपोशी

पंजाब में कांग्रेस का सियासी घमासान जारी है। पार्टी आलाकमान नवोदित सिंह सिद्धू को प्रदेश अध्यक्ष बनाना चाहती है, जिसके लिए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह राज नहीं हैं। शनिवार को पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत ने कैप्टन से मुलाकात की और उन्हें मनाने की कोशिश भी की। कैप्टन अमरिंदर राजी हो गए, लेकिन उन्होंने शर्त रखी कि नवजोत सिंह सिद्धू उनके सार्वजनिक माफी मांगे। इसके बाद शनिवार रात को एक और घटनाक्रम हुआ, जिसे कैप्टन अमरिंदर सिंह का मास्टर स्ट्रोक बताया जा रहा है। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पंजाब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता, राज्यसभा सांसद और कांग्रेस पंजाब के पूर्व अध्यक्ष प्रताप सिंह बाजवा को डिनर पर आमंत्रित कर लि या। कैप्टन और बाजवा, एक दूसरे के विरोधी माने जाते हैं, लेकिन कहा जा रहा है कि सिद्धू को रोकने के लिए दोनों साथ आ गए हैं।

सिद्धू को लेकर कैप्टन-बाजपा एक राय: कैप्टन अमरिंदर सिंह ने शनिवार रात बाजवा के साथ ही पंजाब विधानसभा अध्यक्ष राणा केपी सिंह और कैबिनेट मंत्री राणा गुरमीत एस सोढ़ी के साथ अपने आवास पर मुलाकात की। दरअसल, कैप्टन अमरिंदर सिंह और प्रताप सिंह बाजवा दोनों ही नहीं चाहते कि नवजोत सिंह सिद्धू के हाथ में पंजाब कांग्रेस की कमान आलाकमान के द्वारा सौंपी जाए। कैप्टन की इस कवायद को पार्टी सांसद मनीष तिवारी का समर्थन मिला। मनीष तिवारी ने अमरिंदर सिंह और प्रताप सिंह बाजवा के एक साथ आने की सराहना की, जो लंबे समय से आमने-सामने थे। कैप्टन के कहने पर ही पार्टी ने बाजवा के स्थान पर सुनील जाखड़ को प्रदेश अध्यक्ष बनाया था और इसके बाद से बाजपा, अमरिंदर सिंह सरकार के लगातार आलोचक रहे हैं।

View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll To Top