Now Reading
एनकाउंटर:पुलवामा में सुरक्षाबलों ने 3 आतंकियों को मार गिराया, इनमें लश्कर कमांडर अबु हुरैरा भी शामिल

एनकाउंटर:पुलवामा में सुरक्षाबलों ने 3 आतंकियों को मार गिराया, इनमें लश्कर कमांडर अबु हुरैरा भी शामिल

कश्मीर के पुलवामा में बुधवार सुबह सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ में तीन आतंकियों को मार गिराया। इनमें पाकिस्तानी लश्कर कमांडर एजाज उर्फ अबु हुरैरा भी शामिल है। बाकी दो स्थानीय आतंकी हैं। मौके से हथियार बरामद किए गए हैं। शवों को भी कब्जे में ले लिया गया है। बताया जा रहा है कि खुफिया सूचना के आधार पर इलाके में सर्च ऑपरेशन शुरू हुआ। इसी दौरान एक घर में छिपे आतंकियों ने सुरक्षा बलों पर फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी कार्रवाई में तीनों दहशतगर्द ढेर कर दिए गए।

जम्मू-कश्मीर में 13 दिन में मारे गए 16 आतंकी

  • सबसे पहले 2 जुलाई को पुलवामा में ही सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में 5 आतंकियों को मार गिराया था।
  • इसके बाद राजौरी में 8 जुलाई को 2 पाकिस्तानी आतंकियों को ढेर किया गया। इस ऑपरेशन में एक जूनियर कमीशन ऑफिसर समेत दो सैनिक शहीद हो गए थे।
  • 10 जुलाई को अनंतनाग में सुरक्षा बलों ने 3 आतंकियों को ढेर कर दिया था। इनमें से दो कुछ दिन पहले ही लश्कर में शामिल हुए थे।
  • बाद में 12 जुलाई को राजौरी जिले के सुंदरबनी सेक्टर में दादल के जंगलों में सुरक्षा बलों ने 3 आतंकियों को मार गिराया था।
  • आज यानी 14 जुलाई को पुलवामा में 3 आतंकी मारे गए हैं।

अरनिया सेक्टर के आसमान में संदिग्ध चीज नजर आई
जम्मू-कश्मीर के अरनिया सेक्टर में मंगलवार रात आसमान में लाल लाइट वाला एक ऑब्जेक्ट नजर आया। बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स ने इस पर फायरिंग की तो यह पाकिस्तान की ओर लौट गया। यह ड्रोन था या कुछ और, अभी यह पुष्टि नहीं हो सकी है। दूसरी तरफ, जम्मू-कश्मीर के पुंछ इलाके में LoC पर सीजफायर की खबर मिली है। इसे देखते हुए जवानों को बॉर्डर पर अलर्ट कर दिया गया है।

जम्मू में लगातार 3 दिन ड्रोन नजर आए
26 जून: जम्मू एयरफोर्स स्टेशन पर 26 जून की रात ड्रोन अटैक किया गया था। इस हमले में विस्फोट से एयरफोर्स स्टेशन की छत को नुकसान पहुंचा था और दो जवान घायल हुए थे।
27 जून: रात में जम्मू के कालूचक मिलिट्री बेस पर ड्रोन नजर आया था। सुरक्षा बलों ने इस पर फायरिंग की, लेकिन ये अंधेर में गायब हो गया था।
28 जून: जम्मू के सुंजवान मिलिट्री स्टेशन के पास 28 जून की देर रात संदिग्ध ड्रोन नजर आया। कुछ मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि कुंजवानी और कालूचक इलाके में भी ड्रोन दिखा था।

ड्रोन अटैक के पीछे पाकिस्तान
NSG (नेशनल सिक्योरिटी गार्ड) की स्पेशल बम स्क्वॉड टीम एयर फोर्स स्टेशन ब्लास्ट की जांच कर रही है। अभी तक की जांच में RDX और TNT विस्फोटक पदार्थ इस्तेमाल किए जाने की बात सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि ड्रोन को बॉर्डर के दूसरी तरफ पाकिस्तान से कंट्रोल किया जा रहा था। हालांकि एजेंसी लोकल हैंडलर के शामिल होने की बात को फोकस में रखकर भी जांच कर रही है।

View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll To Top