Now Reading
बिजली लाइन की शिफ्टिंग का काम रोकने आए डिप्टी कलेक्टर, बोले- जो काम करने आएगा उसे काट डालूंगा और जेल चला जाऊंगा

बिजली लाइन की शिफ्टिंग का काम रोकने आए डिप्टी कलेक्टर, बोले- जो काम करने आएगा उसे काट डालूंगा और जेल चला जाऊंगा

गुना।

जब अफसर ही सरकारी काम में अड़ंगा लगाने लगे तो क्या किया जाए। ऐसा ही एक उदाहरण गुना में सामने आया है। जब डिप्टी कलेक्टर ने बिजली लाइन डालने का विरोध करना शुरू कर दिया। इतना ही नहीं इतना बड़ा अफसर गुंडों की तरह बात करने लगा। उन्होंने कॉलोनी में बिजली की लाइन डालने आए कर्मचारियों को धमकाया भी। उन्होंने कहा कि जो काम करने आएगा उसे काट डालूंगा और जेल चला जाऊंगा। साहब ने इस दौरान खूब गाली-गलौच भी की। इस पूरे मामले का एक वीडियो भी सामने आया है। कॉलोनी वालों ने कोतवाली पहुंचकर साहब की शिकायत की है।

गुना के रामकृष्णपुरम कॉलोनी में काफी पुरानी बिजली लाइन है। यह काफी नीचे है। अब कॉलोनी में नई लाइन डाली जानी है। बिजली लाइन के लिए बाकायदा प्रस्ताव पास करवाकर नक्शा बनवाया गया है। अनुमति मिलने के बाद लाइन डालने का काम शुरू हुआ है। सोमवार को ठेकेदार के मजदूर कॉलोनी में खंभे लगाने के लिए गड्ढे खोदने पहुंचे थे।

इसी कॉलोनी में डिप्टी कलेक्टर रामबाबू सिंडोस्कर रहते हैं। कुछ लोगों ने आपत्ति उठाई की लाइन नहीं डालनी है। इसी दौरान डिप्टी कलेक्टर अपने घर खाना खाने पहुंचे थे। वे भी इस दौरान बाहर आ गए और मजदूरों पर बुरी तरह भड़क गए। तैश में आकर उन्होंने खुल गाली-गलौच की।

वीडियो में डिप्टी कलेक्टर यह कहते दिखे…

काट डालेंगे, चाहे मुझे जेल जाना पड़े। लाइन नहीं निकलेगी यहां से। शर्मा (ठेकेदार) से भी बोल दिया है। मैंने बता दिया है। इधर आएगा ही नहीं। उधर ही रखो। तुम लोग पीछे मत हटना। मैं देख लूंगा ठेकेदार को। सिर काट देंगे और चले जाएंगे जेल। भ्रष्टाचार मचाया हुआ है। दो-दो तीन-तीन लाख लेकर। मैंने बोल दिया है शर्मा से की दो-दो तीन तीन लाख चंदा करें। जब फंसा था तो मैंने बचाया था अशोकनगर में। कोई परेशानी की बात नहीं है, चिंता मत करो। आने तो दो कौन आता है गड्ढा खोदने। खोद के तो देख ले। बुला लेना एसपी को, कलेक्टर को, मैं बात करता हूं।”

देर शाम रामकृष्णपुरम कॉलोनी के निवासियों ने कोतवाली पहुंचकर डिप्टी कलेक्टर के खिलाफ आवेदन दिया। कॉलोनी वासियों का कहना है की बिजली लाइन बहुत पुरानी हो चुकी है। दो बार यह लाइन टूट भी चुकी है। कई लोगों को इससे करंट भी लग चुका है। इसलिए लाइन की शिफ्टिंग होना बहुत जरूरी है, लेकिन डिप्टी कलेक्टर ने काम रुकवा दिया है। उन्होंने काफी गाली-गलौच भी की है।

इस मामले में डिप्टी कलेक्टर आरबी सिन्डोसकर का कहना है कि यह व्यक्तिगत मामला है। ठेकेदार के आदमी महिलाओं को परेशान कर रहे थे। उन्हें डरा-धमका रहे थे। मुझे पता चला तो मैं वहां गया। 50 साल पुरानी लाइन को हटा रहे हैं।

View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll To Top