Now Reading
गुप्त नवरात्र हुए प्रारंभ, घट स्थापना के साथ शहर के सभी मंदिरों में सुबह से ही श्रद्धालुओं का पहुंचना शुरू

गुप्त नवरात्र हुए प्रारंभ, घट स्थापना के साथ शहर के सभी मंदिरों में सुबह से ही श्रद्धालुओं का पहुंचना शुरू

ग्वालियर । गुप्त नवरात्रि का प्रारंभ रविवार को हो गया है। प्रतिप्रदा यानि 11 जुलाई को पहले दिन कलश स्थापना की गई। गुप्त नवरात्र के दौरान अन्य नवरात्रों की तरह ही विशेष पूजा अर्चना शुरू हो गई है। इस बार नवरात्रि में षष्टी तिथि का क्षय होने के कारण आठ दिन की गुप्त नवरात्रि रहेगी।

नवरात्र शुरू होने के साथ शहर के सभी मंदिरों में सुबह से ही श्रद्धालुओं का पहुंचना शुरू हो गया। चूंकि मंदिरों में इन दिनों कोरोना के खतरे को देखते हुए अधिक भक्तों को प्रवेश नहीं दिया जा रहा है। इसलिए कई श्रद्धालु मंदिर के द्वार से ही मां के दर्शन कर व पुजारी से पूजन कराकर लौट गए। हालांकि कई मंदिरों में मां भवानी के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं ने काफी देर तक इंतजार भी किया और कोविड नियमों का पालन करते हुए मंदिर में जाकर पूजा अर्चना की। मांडरे वाली माता का मंदिर, शीतला माता मंदिर, अचलेश्वर महादेव, सनातन धर्म मंदिर समेत शहर के सभी मंदिरों में श्रद्धालु पहुंच रहे हैं। इसके साथ ही घर-घर मे कलश स्थापना कर मां की विशेष आराधना करना श्रद्धालुओं ने शुरू कर दिया है। जरूरतमंदों को लोग खाना खिला रहे हैं व दान दक्षिणा कर रहे हैं।अगर आप मंत्रों से अनजान हैं तो केवल पूजन करते समय दुर्गा सप्तशती में दिए गए नवार्ण मंत्र ‘ओम ऐं ह्रीं क्लीं चामुंडायै विच्चे’ से समस्त पूजन सामग्री अर्पित करें। मां शक्ति का यह मंत्र चमत्कारी शक्तियों से सपंन्न करने में समर्थ है।

View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll To Top