Now Reading
ठेकेदार को जालौन के दो युवक चूना लगा गए,किराए पर लगाने दिए थे ट्रक, हड़पे:एक साल हो गया, न ट्रक मिले न किराया, उल्टा बैंक का कर्जा और हो गया

ठेकेदार को जालौन के दो युवक चूना लगा गए,किराए पर लगाने दिए थे ट्रक, हड़पे:एक साल हो गया, न ट्रक मिले न किराया, उल्टा बैंक का कर्जा और हो गया

ग्वालियर के एक ठेकेदार को जालौन UP के दो युवक चूना लगा गए। दोनों युवक ठेकेदार से उसके 3 ट्रेलर (ट्रक) किराए पर चलाने के लिए ले तो गए, लेकिन उसके बाद न तो ट्रक लौटाए न ही किराया दिया। अब ठेकेदार पर बैंक का कर्जा हो गया है। इतना ही नहीं गाड़ियों का इंश्योरेंस भी खत्म हो गया है।

ऐसे में कोई सड़क हादसा होता है तो ट्रक मालिक ही फंसेगा। घटना जुलाई 2020 से अभी तक की है। पीड़ित ठेकेदार ने मामले की शिकायत एसपी ग्वालियर और विश्वविद्यालय थाना में की है। पुलिस ने मामला जांच में तो लिया है, लेकिन अभी तक FIR दर्ज नहीं की गई है।

ओहदपुर निवासी धर्मवीर सिंह गुर्जर पुत्र सूरतराम सिंह गुर्जर ठेकेदार हैं। उनके नाम पर एक 22 चक्का ट्रक नंबर MP07 HB-6383, एक 14 चक्का ट्रक नंबर MP07 HB-5458 हैं, जबकि एक 22 चक्का ट्रक नंबर MP07 HB-6408 धर्मवीर के फुफेरे भाई के नाम पर है। दोनों ने व्यवसाय के लिए टाटा मोटर कंपनी से तीनों गाड़ियां फाइनेंस कराई थीं। एक साल पहले जुलाई 2020 में उनकी मुलाकात एक कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश जालौन निवासी राघवेन्द्र सिंह व मंगल से हुई थी। उसके बाद राघवेन्द्र सिंह ने ऑफर दिया कि उनका जालौन में गाड़ियों का काम है वह अच्छी कमाई करवा देंगे। उनको गाड़ी किराए पर दे दो। हर 6 महीने में हिसाब किया करेंगे। बैंक की किश्त भी हम वहीं से भर दिया करेंगे। गाड़ियों में वैसे ही घाटा हो रहा था तो धर्मवीर और उसके फुफेरे भाई ने अपने तीनों ट्रक राघवेन्द्र और मंगल को सौंप दिए। 24 जुलाई 2020 को वह ट्रक लेकर चला गया।

न किश्त भरी न ट्रक लौट रहा

  • ट्रक ले जाते समय राघवेन्द्र ने एग्रीमेंट करते हुए 5.40 रुपए दिए थे। इसके बाद 6 महीने तक उसने जमकर गाड़ी चलाई। उसके बाद उसने कोई पैसा नहीं दिया। धर्मवीर ने फाइनेंस कंपनी से संपर्क किया तो पता लगा कि अभी तक एक भी किश्त जमा नहीं की गई है। उस पर हर महीने की किश्त का कर्जा चढ़ता जा रहा है। इसके बाद लॉकडाउन लग गया।

अब ट्रक लौटाने से किया इनकार

  • अब जब लॉकडाउन खुला तो धर्मवीर सिंह ने राघवेन्द्र से बात कर अपने एक साल का किराया और फाइनेंस कंपनी के किश्त के रुपए मांगे तो ठग एक दो दिन की कहकर टहलाने लगा। इस पर धर्मवीर ने उसके ट्रक लौटाने के लिए कहा। अब राघवेन्द्र ने धमकाया है कि न वह ट्रक देगा न ही रुपए देगा। पीड़ित ने मामले की शिकायत विश्वविद्यालय थाने में की है। पुलिस मामले को गंभीरता से नहीं ले रही है।
View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll To Top