Now Reading
श्योपुर के दुग्ध उत्पादकों को केंद्रीय मंत्री तोमर ने दिया बड़ा तोहफा

श्योपुर के दुग्ध उत्पादकों को केंद्रीय मंत्री तोमर ने दिया बड़ा तोहफा

केन्द्रीय मंत्री एवं मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री आवास योजना के प्रोजेक्ट को दिलाई मंजूरी
50 गांवो के 5000 दूध उत्पादकों के लिए कराया प्रोजेक्ट स्वीकृत

श्योपुर ।
भारत सरकार के पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर एवं मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चैहान द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण विशेष परियोजना अंतर्गत श्योपुर जिले के सहरिया परिवारों को लाभान्वित करने के लिए प्रोजेक्ट को भारत सरकार से मंजूरी दिलाई गई है। जिसके अंतर्गत 19166 परिवारों को लाभान्वित किया जावेगा। साथ ही श्योपुर के दूग्ध उत्पादक किसानों को बडी सौगात प्रदान की गई है। जिसमें दुग्ध उत्पादक इकाइ सह प्रसंरण के प्रोजेक्ट को स्वीकृत कराया गया है। जिससे 50 ग्रामों के 05 हजार दुग्ध उत्पादक किसानों को सीधा लाभ पहुंचेगा।
केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर द्वारा विेशेष प्रयासों से देश में प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत स्वीकृत प्रोजेक्ट के माध्यम से आवास स्वीकृत करने की दिशा मे अथक प्रयास किये गये है। जिसके अतंर्गत श्योपुर जिले में सामाजिक, आर्थिक एवं जाति जनगणना सर्वे 2011 की सूची में दर्ज पात्र परिवारों में से योजना प्रारंभ से वर्तमान तक 21978 हितग्राहियों के लिए आवास स्वीकृत किये जा चुके है। जिसमें से 7785 सहरिया जनजाति के परिवार है। इस सर्वे में छूटे हुए सहरिया जनजाति परिवार जो विशेष पिछडी जनजाति होकर झोपडी/कच्चे घरो में निवास कर रहे है। उनके जीवन स्तर को सुधारने तथा पक्का आवास मुहैया कराने की आवश्यकता को दृष्टिगत रखते हुए भारत सरकार द्वारा छूटे हुए परिवारों को सूचीबद्ध करने हेतु विगत वर्षो में उपलब्ध कराये गये आॅप्शन आवास प्लस एप पर 19166 सहरिया परिवारों को दर्ज किया गया है। जिसमें श्योपुर जनपद क्षेत्र के 4223, कराहल क्षेत्र के 11380 एवं श्योपुर क्षेत्र के 3563 सहरिया परिवारों को जोडा गया है।
राज्य सरकार के माध्यम से सहरिया जनजाति को आवास उपलब्ध कराने का प्रस्ताव अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग भोपाल श्री मनोज श्रीवास्तव द्वारा भारत सरकार को भेजा गया था। इस विशेष प्रोजेक्ट के स्वीकृत होने से सहरिया परिवारों को लाभान्वित किये जाने पर उनका रोजमर्रा का जीवन समुगमता से चलाने में सहायता मिलेगी। साथ ही स्थाई निवास बन जाने से पलायन की समस्या से भी निजात प्राप्ता होगी। इस प्रोजेक्ट के माध्यम से सभी को आवास स्वीकृत कर पूर्ण कराने हेतु पीएमएवाय-जी अतंर्गत राशि लगभग रूपयें 229,99,20,000/- एंव मनरेगा अतंर्गत मजदूरी मद में 30,35,89,440/- रूपयें व्यय किये जावेगे। साथ ही 17,24,940 मानव दिवस अर्जित होगे।
श्योपुर जिले के दुग्ध उत्पादक किसानों की आय में वृद्धि करने के लिए जिला पंचायत एवं मप्रडे ग्रामीण आजीविका मिशन द्वारा दुग्ध उत्पादक इकाई सह प्रसंकरण का प्रस्ताव तैयार कर राज्य शासन के माध्यम से भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय को भेजा गया। जिसको केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर एवं मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिहं चैहान द्वारा प्रोजेक्ट को स्वीकृत कराया। इस प्रोजेक्ट के माध्यम से श्योपुर के दुग्ध उत्पादक किसानो को बहुत बडी सौगात प्रदान की गई है। जिसके अंतर्गत दुग्ध को लम्बे समय तक सुरक्षित रखने के लिए 10 हजार लीटर की क्षमता वाला 2बीएमसी (बल्क मिल्क कुलर) की स्थापना की जावेगी। जिसमें प्रतिदिन 8000 लीटर दूध किसानो से एकत्रित किया जावेगा। जिसका प्रतिदिन 03 लाख रूपये का भुगतान किया जावेगा। यह पूरा प्लांट 02 करोड की लागत से कराहल में निर्मित किया जावेगा। इस प्लाट से छोटे किसानों को दुग्ध उत्पादन से संवहनीय आय में वृद्धि होगी एवं दुग्ध उत्पादन को बढाव देने की दिशा में राज्य शासन को 02 करोड रूपये की राशि प्रदान की जावेगी।
यह प्रोजेक्ट राष्ट्रीय डेयरी डवलपमंेंट के सहयोग से तैयार किया जा रहा है। जिसका संचालक मप्रडे ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत संचालित स्वसहायता समूहों के परिसंगो द्वारा किया जावेगा। इस प्रोजेक्ट के लिए श्योपुर जिले के 50 ग्रामों का चयन किया जा चुका है।
कलेक्टर श्री राकेश कुमार श्रीवास्तव द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना- ग्रामीण विशेष परियोजना एवं दुग्ध उत्पादन प्रोजेक्ट को तैयार कराने एवं स्वीकृति की प्रक्रिया में कार्यवाही करने के लिए अथक प्रयास किये गये । साथ ही तत्कालीन कलेक्टर श्री बंसत कुर्रे एवं श्रीमती प्रतिभा पाल द्वारा भी पहल की गई। इसके अलावा सीईओ जिला पंचायत श्योपुर श्री राजेश शुक्ल द्वारा प्रोजेक्ट का प्रस्ताव एवं स्वीकृति दिलाने में प्रयास किये गये।
क्रमांक 250/2020 फोटो क्र. 01
जिला न्यायाधीश ने किया श्रमिक विधिक सहायता प्रकोष्ठ का उद्घाटन
श्योपुर, 27 नवंबर, 2020
जिला न्यायाधीश श्री एसएस रघुवंशी ने संविधान दिवस के अवसर पर असंगठित क्षेत्र के श्रमिक योजना 2015 के तहत श्रमिक विधिक सहायता प्रकोष्ठ का उद्घाटन गत दिवस एडीआर भवन श्योपुर पर किया।
इस अवसर पर विशेष न्यायाधीश, श्री रविन्दर सिंह, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट, श्री महेन्द्र मांगोदिया, श्रम निरीक्षक, श्री पी.एल. कोरी, सामाजिक कार्यकर्ता श्री राजेन्द्र मित्तल एवं जिला विधिक सहायता अधिकारी कु. विभूति तिवारी आदि उपस्थित थे।
क्रमांक 251/2020 फोटो क्र.02
जिले में कोरोना संक्रमण रोकने के लिए निरतर प्रयास जारी
श्योपुर, 27 नवंबर, 2020
कलेक्टर श्री राकेश कुमार श्रीवास्तव के निर्देशन में नोबल कोरोना वायरस कोविड-19 के अतंर्गत श्योपुर जिलें में संक्रमण को रोकने के लिए विभिन्न प्रकार के उपाय किये जा रहे है। साथ ही संक्रमित मरीजो को कोरोना से निजात दिलाने के निरंतर प्रयास जारी है।
सीएमएचओ डाॅ बीएल यादव ने बताया कि कोरोना संक्रमण की दिशा में राज्य/अन्य राज्यों से आये 17313 यात्रियो की स्क्रीनिंग कार्य मेडीकल टीम द्वारा समय-समय पर कराने की सुविधा दी गई है। जिसमें विदेश भ्रमण से आये 64 व्यक्तियों कोे स्क्रीनिंग की सुविधा प्रदान की गई। इसी प्रकार विदेश से आये इतने ही व्यक्तियों को होम कोरेनटाईन की व्यवस्था सुनिश्चित की गई। साथ ही उनका होमकोरेनटाइन का पीरियड भी पूर्ण हो चुका है। इसके अलावा विदेश से आये 02 यात्री जिले मे वापिस नही लौटे है।
इसी प्रकार जिले में होम कोरेनटाईन किये गये 17550 व्यक्तियों में से 17550 को घर भेजा जा चुका है। इसके अलावा 31106 व्यक्तियों के सेम्पल लिये जा चुके है। साथ ही 1227 कोरोना वायरस सेम्पल रिपोर्ट पाॅजीटिव पाई गई थी। इसी प्रकार कोरोना वायरस सेम्पल में 29342 व्यक्तियों की जानकारी नेगेटिव पाई गई है।
सीएमएचओ श्योपुर द्वारा जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार 263 व्यक्तियों की सेम्पल रिपोर्ट प्राप्त नही हुई है। इसके अलावा 235 कोरोना वायरस सेम्पल पैथोलाॅजी द्वारा रिजेक्ट कर दिये गये है। कोरोना संक्रमण से 11 व्यक्तियों की मृत्यु हो गई है। साथ ही कोरोना संक्रमित 1144 व्यक्ति ठीक होने के बाद अपने घर पहुंच गये है। इसके अलावा कुल सर्वे काॅटेन्टमेंट एरिया 388 घोषित किये गये थे।
क्रमांक 252/2020 ——
//3//
नवकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में निवेश क¨ बढ़ावा देकर हासिल करेंगे सर्वश्रेष्ठ परिणाम
मुख्यमंत्री श्री च©हान ने तीसरे वैश्विक नवकरणीय ऊर्जा निवेश सम्मेलन क¨ किया संब¨धित
मध्यप्रदेश में हुई प्रगति की दी जानकारी
श्योपुर, 27 नवंबर, 2020
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह च©हान ने कहा है कि नवकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में निवेश क¨ प्र¨त्साहित किया जाएगा। प्रदेश के कुल विद्युत उत्पादन में नवकरणीय ऊर्जा की हिस्सेदारी 20 प्रतिशत है। इसे निरंतर बढ़ाया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री च©हान ने नवकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में निवेशक¨ं क¨ मध्यप्रदेश आने का आमंत्रण देते हुए कहा कि मध्यप्रदेश इस क्षेत्र में आदर्श प्रदेश है। निवेशक¨ं क¨ सभी आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाएंगी। प्रदेश के मुरैना, सागर, दम¨ह अ©र रतलाम जिल¨ं में 5 हजार मेगावाट क्षमता के स¨लर पार्क के लिए भूमि चिन्हित कर ली गई है।
प्रधानमंत्री श्री म¨दी के, स©र ऊर्जा परिय¨जनाअ¨ं क¨ जमीन पर उतारने के स्वप्न क¨ साकार करने में मध्यप्रदेश सहभागी बनेगा। नवकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में निवेश क¨ बढ़ावा देने के लिए समस्त बाधाअ¨ं क¨ दूर कर सर्वश्रेष्ठ परिणाम प्राप्त किए जाएंगे। मुख्यमंत्री श्री च©हान आज वीडिय¨ कान्फ्रेंस द्वारा तीसरे वैश्विक नवकरणीय ऊर्जा निवेश सम्मेलन (थर्ड ग्ल¨बल आरई इन्वेस्ट रिनेवेबिल एनर्जी इन्वेस्टर्स मीट एण्ड एक्स-प¨) के सत्र क¨ संब¨धित कर रहे थे। केन्द्रीय नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री आर.के. सिंह ने कहा कि इस बैठक अ©र सम्मेलन का उद्देश्य इस क्षेत्र में निवेश वृद्धि के लिए राज्य¨ं की भागीदारी बढ़ाना है। प्रधानमंत्री श्री म¨दी द्वारा इस तीन दिवसीय सम्मेलन के पहले दिन दिए गए संब¨धन से इस क्षेत्र के विकास के प्रति उनकी रूचि अ©र प्राथमिकता की दृष्टि की जानकारी प्राप्त ह¨ती है। सम्मेलन में आज मध्यप्रदेश के अलावा उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री य¨गी आदित्यनाथ, राजस्थान के मुख्यमंत्री श्री अश¨क गहल¨त, गुजरात के मुख्यमंत्री श्री विजय रूपाणी, हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर अ©र लद्दाख के उप राज्यपाल श्री राधाकृष्ण माथुर ने भी हिस्सा लिया।
मुख्यमंत्री श्री च©हान ने मध्यप्रदेश में नवकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में प्रगति की जानकारी देते हुए बताया वर्ष 2012 में 438 मेगावाॅट से बढ़कर आज 5000 मेगा वाट नवकरणीय ऊर्जा उत्पादन ह¨ रहा है ज¨ 12 गुना ज्यादा है। रीवा में विश्व की बड़ी परिय¨जनाअ¨ं में 750 मेगावाट क्षमता की स©र ऊर्जा परिय¨जना स्थापित की गई। इस परिय¨जना से प्राप्त बिजली की कीमत सबसे कम 2.97 प्रति यूनिट प्राप्त हुई। देश में यह एक ऐतिहासिक उपलब्धि थी। गत वषर्¨ में नवकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में 25 हजार कर¨ड़ रुपए का निवेश हुआ है।
मुख्यमंत्री श्री च©हान ने कहा कि धरती का तापमान बढ़ रहा है। यह जलवायु परिवर्तन विचारणीय अ©र चिंतनीय है। वर्ष 2050 तक 2 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान बढ़ने की आशंका विश्व के लिए भी चिंता का विषय है। पर्यावरण क¨ बचाना आवश्यक है, धरती क¨ बचाते हुए विकास की गति जारी रखना है। पर्यावरण अ©र विकास का संतुलन स्थापित करना पड़ेगा। मुख्यमंत्री श्री च©हान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री म¨दी ने रीवा में 750 मेगावाट क्षमता के स©र ऊर्जा संयंत्र के शुभारंभ अवसर पर मंत्र दिया था कि जब भी हम भविष्य की ऊर्जा की बात करें, हमारे सामने वर्तमान के गरीब की झ¨पड़ी का चित्र आना चाहिए अ©र अंतिम पंक्ति का व्यक्ति ही हमारी प्रेरणा का केन्द्र अ©र ताकत है। नवकरणीय ऊर्जा क¨ बेहतरीन विकल्प माना गया है क्य¨ंकि यह प्य¨र, श्य¨र अ©र सेक्य¨र है। मध्यप्रदेश इसी दिशा में प्रयास कर रहा है। नवकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में मध्यप्रदेश प्रधानमंत्री श्री म¨दी के वर्ष 2022 तक एक लाख मेगावाट स©र ऊर्जा उत्पादन के संकल्प क¨ पूरा करने में सहय¨गी ह¨गा। प्रदेश का स©र ऊर्जा उत्पादन 5 हजार से बढ़ाकर 10 हजार मेगावाट तक किया जाएगा।
मुख्यमंत्री श्री च©हान ने कहा कि मध्य प्रदेश में 21 हजार 500 स¨लर पंप स्थापित किए गए हैं। वर्ष 2022 तक एक लाख स¨लर पंप की स्थापना का लक्ष्य है। अक्षय ऊर्जा उपकरण¨ं के विक्रय के लिए सभी जिल¨ं में निजी इकाइय¨ं क¨ प्र¨त्साहित कर 244 अक्षय ऊर्जा शाॅप प्रारंभ की गई है।
मुख्यमंत्री श्री च©हान ने कहा कि वर्तमान में प्रदेश में वर्ष 2014 में नीमच में 130 मेगावाट अ©र मंदस©र में वर्ष 2017 में 250 मेगावाट क्षमता की स©र ऊर्जा उत्पादन परिय¨जना स्थापित की गई। रीवा में 750 मेगावाट की इकाइय¨ं की स्थापना से इतिहास रचा गया। प्रदेश में ऐसी परिय¨जनाअ¨ं के विद्युत निकास के लिए ग्रीन एनर्जी काॅरीड¨र के अंतर्गत 2900 किल¨मीटर लाइन अ©र 11 सब स्टेशन का विकास ह¨ रहा है। प्रदेश में 15 पावर ग्रिड सब स्टेशन में लगे हैं। गुजरात में म¨दी जी ने नवकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में श्रेष्ठतम कार्य करते हुए फ्ल¨टिंग प्लांट की पहल की। उसी तरह मध्यप्रदेश में भी ये नवाचार करते हुए हम अ¨ंकरेश्वर में फ्ल¨टिंग प्लांट लगाएंगे। देश के मध्य में स्थित ह¨ने के कारण मध्यप्रदेश क¨ हब बनाएंगे। समस्त संभावनाअ¨ं का द¨हन ह¨गा।
//4//
भारत सरकार के नवीन अ©र नवकरणीय ऊर्जा मंत्रालय ने आगर, शाजापुर, नीमच, छतरपुर अ©र अ¨ंकारेश्वर में 3600 मेगावाट क्षमता के स¨लर एनर्जी पार्क लगाने की मंजूरी दी है जिन पर 15 हजार कर¨ड़ रुपये का निवेश का अनुमान है। मुख्यमंत्री श्री च©हान ने केन्द्रीय बिजली अ©र नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री आर.के. सिंह अ©र सीआईआई के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री चंद्रजीत बेनर्जी का इस सत्र में उन्हें आमंत्रित करने के लिए आभार व्यक्त किया। वीडिय¨ कान्फ्रेंस में प्रमुख सचिव नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा श्री संजय दुबे उपस्थित थे।
क्रमांक 253/2020 ——
प्रदेश में नहीं लगेगा लाॅकडाउन
अधिक संक्रमण वाले क्षेत्र¨ं में बनाए जाएंगे छ¨टे-छ¨टे कंटेनमेंट ज¨न
ह¨म आइस¨लेशन वाले मरीज बाहर न निकलें
मुख्यमंत्री श्री च©हान ने क¨र¨ना की स्थिति एवं व्यवस्थाअ¨ं की समीक्षा की
श्योपुर, 27 नवंबर, 2020
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह च©हान ने कहा है कि आर्थिक गतिविधिय¨ं क¨ सुचारू रखने के लिए प्रदेश में अब लाॅकडाउन नहीं लगाया जाएगा। जिन क्षेत्र¨ं में अधिक संक्रमण है वहां छ¨टे-छ¨टे कंटेनमेंट ज¨न बनाए जाएंगे। हम पूरी सावधानियां बरतते हुए क¨र¨ना का डटकर मुकाबला करेंगे तथा उसे शीघ्र परास्त करेंगे।
मुख्यमंत्री श्री च©हान गत दिवस मंत्रालय में कैबिनेट बैठक से पूर्व क¨र¨ना की स्थिति एवं व्यवस्थाअ¨ं की समीक्षा कर रहे थे। मंत्री गण वीडिय¨ काॅन्फ्रेंसिंग से शामिल हुए। मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस भी बैठक में उपस्थित थे।
प्रदेश की मृत्यु दर १.६ प्रतिशत
मुख्यमंत्री श्री च©हान ने कहा कि प्रदेश में क¨र¨ना की मृत्यु दर १.६ प्रतिशत है। सर्वश्रेष्ठ उपचार उपलब्ध करवाकर प्रदेश में मृत्यु दर क¨ न्यूनतम किए जाने के प्रयास किए जा रहे हैं। प्रदेश में अब तक लगभग द¨ लाख व्यक्ति क¨र¨ना से ग्रसित हुए हैं, जिनमें से ३२०० की मृत्यु हुई है।
गत १ सप्ताह में क¨र¨ना के प्रकरण¨ं में अधिक वृद्धि
प्रदेश में गत १ सप्ताह में क¨र¨ना के प्रकरण¨ं में अधिक वृद्धि दर्ज की गई है। गत ४ दिन¨ं से प्रतिदिन प्रदेश में लगभग १६ से १७ स© नए मरीज आ रहे हैं। इंद©र में आज ५७२, भ¨पाल में ३३२, ग्वालियर में ६९, रतलाम में ५३, जबलपुर में ४८ तथा विदिशा में ३४ मरीज पाए गए हैं। मुख्यमंत्री श्री च©हान ने इन सभी जिल¨ं पर विशेष ध्यान दिए जाने के निर्देश दिए। सागर जिले में मृत्यु दर २.५४ ह¨ने पर वहां उपचार की सवर्¨त्तम व्यवस्था सुनिश्चित किए जाने के निर्देश दिए गए।
६१ः मरीज ह¨म आइस¨लेशन में
प्रदेश में क¨र¨ना के मरीज¨ं में ६१ः मरीज ह¨म आइस¨लेशन में है। मुख्यमंत्री श्री च©हान ने निर्देश दिए कि यह सुनिश्चित किया जाए कि ह¨म आइस¨लेशन में रहने वाले मरीज घर से बाहर नहीं निकलें अन्यथा संक्रमण फैलेगा। डिस्ट्रिक्ट कमांड एन्ड कंट्र¨ल सेंटर के माध्यम से उनकी निरंतर माॅनिटरिंग की जाए।
पर्याप्त रहे अस्पताल¨ं में बेड्स की संख्या
मुख्यमंत्री श्री च©हान ने कहा कि सर्दिय¨ं अ©र शादिय¨ं के कारण क¨र¨ना संक्रमण बढ़ सकता है, अतः अस्पताल¨ं में पर्याप्त बेड्स एवं आॅक्सीजन बेड्स की उपलब्धता सुनिश्चित की जानी चाहिए। अपर मुख्य सचिव ने बताया कि प्रदेश में सभी स्थान¨ं पर पर्याप्त बेड्स अ©र आॅक्सीजन बेड्स की संख्या है।
१४१९९ सक्रिय मरीज
मध्यप्रदेश में क¨र¨ना के सक्रिय मरीज¨ं की संख्या १४१९९ है तथा तुलनात्मक रूप से मध्यप्रदेश देश में ११वें स्थान पर है। मध्य प्रदेश की क¨र¨ना पाॅजिटिविटी ४.९ प्रतिशत है।
क्रमांक 254/2020 ——
//5//
आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश का र¨ड मैप तैयार है तेजी से अमल कराएं
केंद्र की हर य¨जना के क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश क¨ रहना है नंबर वन
हर महीने विभाग¨ं के कार्य की ह¨गी रेटिंग
प्रत्येक स¨मवार मंत्रीगण करें विभागीय समीक्षा
कैबिनेट की बैठक के प्रारंभ में मुख्यमंत्री श्री च©हान ने मंत्रीगण¨ं क¨ संब¨धित किया
श्योपुर, 27 नवंबर, 2020
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह च©हान ने कहा है कि आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश का र¨ड मैप तैयार है। मंत्री गण इसे तेजी से अमल में लाएं। हमें एक दिन भी व्यर्थ नहीं करना है। हमें परिणाम देना है। मंत्री गण प्रत्येक स¨मवार क¨ विभागीय अधिकारिय¨ं के साथ विभागीय कायर्¨ं की समीक्षा करें। केंद्र की हर य¨जना में मध्य प्रदेश क¨ नंबर वन रहना है। हर महीने प्रत्येक विभाग के कार्य की रेटिंग की जाएगी। हमें प्रदेश का तेज गति से विकास एवं जनता का कल्याण करना है साथ ही प्रदेश में सुशासन सुनिश्चित करना है।
मुख्यमंत्री श्री च©हान गत दिवस मंत्रालय में वीडिय¨ काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कैबिनेट की बैठक के प्रारंभ में मंत्री गण¨ं क¨ संब¨धित कर रहे थे। इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस तथा सभी संबंधित उपस्थित थे।
आर्थिक संकट में निकालनी है राह
मुख्यमंत्री श्री च©हान ने कहा कि हमें आर्थिक संकट में राह निकालनी है। केंद्र की हर एक य¨जना में प्रदेश के लिए अधिक से अधिक राशि प्राप्त करने की पूरी क¨शिश करनी चाहिए।
सीएम डैशब¨र्ड के माध्यम से समीक्षा
मुख्यमंत्री श्री च©हान ने कहा कि सीएम डैशब¨र्ड पर हर विभाग की आॅनलाइन प्रगति प्रतिदिन प्राप्त ह¨ती है, जिसकी नियमित समीक्षा की जाएगी। वे प्रत्येक य¨जना की प्रथक प्रथक समीक्षा करेंगे
सुशासन हम सबकी जिम्मेदारी
मुख्यमंत्री श्री च©हान ने कहा कि प्रदेश में सुशासन हम सब की जिम्मेवारी है। एक अ¨र जहां जनता क¨ समय पर य¨जनाअ¨ं का लाभ मिलना चाहिए, वहीं प्रदेश में कानून एवं शांति व्यवस्था पुख्ता ह¨नी चाहिए। असामाजिक तत्व, गुंडे, बदमाश¨ं, माफियाअ¨ं क¨ नेस्तनाबूत कर देना हमारा संकल्प है। इसके लिए हम नए कानून भी बना रहे हैं।
प्रेम के जाल में फंसाकर धर्मांतरण बर्दाश्त नहीं
मुख्यमंत्री श्री च©हान ने कहा कि प्रदेश में प्रेम के जाल में फंसा कर धर्मांतरण बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। ढ¨ंगी अ©र पाखंडीय¨ं के खिलाफ भी प्रदेश में निरंतर कार्रवाई की जा रही है।
गृह विभाग क¨ दी बधाई
मुख्यमंत्री श्री च©हान ने प्रदेश में नक्सल विर¨धी अभियान क¨ सफलतापूर्वक संचालित करने के लिए गृह विभाग क¨ बधाई दी। अभियान के तहत एक खूंखार नक्सलवादी मारा गया है। प्रदेश में प्रमुख बदमाश¨ं के विरुद्ध निरंतर कार्यवाही ह¨ रही है।
विभिन्न प्रस्ताव¨ं पर लिए गए निर्णय
कैबिनेट में प्रस्तुत विभिन्न प्रस्ताव¨ं पर निर्णय लिए गए। पशुपालन विभाग का नाम बदलकर पशुपालन एवं डेयरी विभाग किए जाने, शासकीय शालाअ¨ं में गणेश वितरण के लिए राशि स्वीकृत किए जाने, ग्वालियर रीवा एवं इंद©र के शासकीय मुद्रणालय क¨ बंद किए जाने, ऊर्जा विभाग क¨ सब स्टेशन निर्माण आदि के लिए बैंक से ऋण लिए जाने, नर्सिंग काॅलेज¨ं के लिए नियंत्रण नियम लागू किए जाने आदि प्रस्ताव¨ं क¨ स्वीकृति प्रदान की गई।
क्रमांक 255/2020 ——
//6//
पर्यटन के लिए लीज पर ली गई शासकीय भूमि पर ह¨गी बैंक से ऋण लेने की पात्रता
वर्ष २०१७ के बाद मध्य प्रदेश में पर्यटक¨ं की संख्या हुई डेढ़ गुनी
भारत के पर्यटन नक्शे पर मध्य प्रदेश सातवें स्थान पर
मुख्यमंत्री श्री च©हान ने ली पर्यटन कैबिनेट की बैठक
श्योपुर, 27 नवंबर, 2020
मुख्यमंत्री श्री च©हान ने कहा है कि मध्य प्रदेश में पर्यटन का तेज गति से विकास कर न सिर्फ इसे भारत में पर्यटन के क्षेत्र में अग्रणी बनाना है, बल्कि इसके माध्यम से र¨जगार के अधिक से अधिक अवसर सृजित करने हैं। प्रदेश में वर्ष २०१७ के बाद पर्यटन के क्षेत्र में तेजी से विकास हुआ है तथा प्रदेश में आने वाले पर्यटक¨ं की संख्या लगभग डेढ़ गुना ह¨ गई है।
मुख्यमंत्री श्री च©हान ने आज मंत्रालय में पर्यटन कैबिनेट की बैठक ली। बैठक में पर्यटन के लिए मध्यप्रदेश में लीज पर दी जाने वाली शासकीय भूमि पर बैंक¨ं से ऋण लेने की पात्रता संबंधी प्रस्ताव क¨ मंजूरी दी गई। बैठक में संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री सुश्री ऊषा ठाकुर, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव श्री शिव शेखर शुक्ला आदि उपस्थित थे।
प्रमुख सचिव श्री शिव शेखर शुक्ला ने बताया कि पर्यटन के क्षेत्र में मध्य प्रदेश का भारत में सातवां स्थान है। वर्ष २०१७ के बाद प्रदेश में आने वाले पर्यटक¨ं की संख्या में काफी वृद्धि हुई है। वर्ष २०१७ में मध्य प्रदेश में कुल ५ कर¨ड़ ८८ लाख पर्यटक आए वहीं वर्ष २०१९ में आठ कर¨ड़ ९० लाख से अधिक पर्यटक मध्यप्रदेश में आए।
प्रदेश में चल रही है पांच फिल्म¨ं की शूटिंग
मध्यप्रदेश की फिल्म पर्यटन नीति, जिसके तहत प्रदेश में फिल्म, टीवी सीरियल, वेब सीरीज आदि निर्माण के लिए १० कर¨ड़ तक का अनुदान दिया जाता है, काफी ल¨कप्रिय ह¨ रही है। वर्तमान में प्रदेश में पांच फिल्म¨ं की शूटिंग चल रही है। राजकुमार संत¨षी, अनुपम खेर जैसे फिल्म निर्माता मध्यप्रदेश में फिल्म शूट कर रहे हैं। वर्ष २०२० २१ में लगभग ४५ फिल्म¨ं, वेब सीरीज, टीवी सीरियल आदि की शूटिंग संभावित है।
साहसिक एवं जल कीड़ा पर्यटन
मध्यप्रदेश की कैंपिंग नीति २०१८ तथा जल पर्यटन नीति २०१७ के चलते यहां साहसिक एवं जल क्रीड़ा पर्यटन में काफी वृद्धि हुई है। मुख्यमंत्री श्री च©हान ने कहा कि क¨र¨ना संक्रमण के दृष्टिगत प्रदेश में सभी सावधानियां बरतें हुए सीमित संख्या में ये गतिविधियां की जा सकती हैं।
रिस्पांसिबल टूरिज्म मिशन
पर्यटन क¨ बढ़ावा देने के लिए मध्यप्रदेश में रिस्पांसिबल टूरिज्म मिशन चालू किया गया है, जिसके अंतर्गत ग्रामीण एवं जनजातीय पर्यटन, अनुभव आधारित पर्यटन, हस्तकला एवं हस्तशिल्प पर्यटन, स्वस्थ जीवन शैली पर्यटन आदि क¨ बढ़ावा दिया जा रहा है।
मध्य प्रदेश के ष्वर्चुअल टूरष् विदेश¨ं में ल¨कप्रिय
प्रमुख सचिव शिव शेखर शुक्ला ने बताया कि मध्य प्रदेश के २० वर्चुअल टूर तैयार किए गए हैं, ज¨ कि गूगल आर्ट एंड कल्चर के माध्यम से विदेश¨ं में अत्यधिक ल¨कप्रिय ह¨ रहे हैं। मध्यप्रदेश में फिल्म एंड प्री वेडिंग शूटिंग तथा डेस्टिनेशन टूरिज्म पाॅलिसी भी बनाई गई है।
धार्मिक एवं आध्यात्मिक पर्यटन
मुख्यमंत्री श्री च©हान ने कहा कि मध्यप्रदेश में धार्मिक एवं आध्यात्मिक पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं। देश में बुद्धिस्ट सर्किट, रामायण सर्किट, तीर्थंकर सर्किट आदि विकसित किए जा रहे हैं। अ¨मकारेश्वर कथा अमरकंटक का विकास किया जा रहा है। सालरिया ग¨ अभयारण्य जैसे स्थान¨ं पर ध्यान एवं आयुष चिकित्सा के अंतर्गत पंचकर्म आदि पर केंद्रित पर्यटन केंद्र प्रारंभ किए जा सकते हैं।
वन एवं पर्यावरण आधारित पर्यटन
मध्यप्रदेश में वन एवं पर्यावरण आधारित पर्यटन के अंतर्गत वाइल्डलाइफ सर्किट, इक¨ सर्किट, बफर में सफर आदि पर कार्य किया जा रहा है। ल¨नली प्लैनेट संस्था द्वारा मध्य प्रदेश क¨ दुनिया का तीसरा सबसे अच्छा गंतव्य चुना गया है।
क्रमांक 256/2020 ——
//7//
समाधान य¨जना के प्रथम चरण में आये 16 हजार 500 आवेदन
115 कर¨ड़ 30 लाख रूपये हुए जमा
श्योपुर, 27 नवंबर, 2020
मध्यप्रदेश कराधान अधिनियम¨ं की पुरानी बकाया राशि का समाधान अध्यादेश-2020 लागू ह¨ने के बाद प्रथम चरण (60 दिवस) में 16 हजार 500 आवेदन प्राप्त हुए। आवेदन¨ं के साथ 115 कर¨ड़ 30 लाख रूपये शासकीय क¨ष में जमा करवाये गये। अध्यादेश 26 सितम्बर 2020 क¨ लागू हुआ था। इसमें 60, 90 एवं 120 दिन के भीतर आवेदन करने पर अलग-अलग लाभ के प्रावधान किये गये हैं।
संचालक वाणिज्यिक कर श्री एन.एस. मरावी ने जानकारी दी है कि समाधान य¨जना में 31 मार्च 2016 तक की अवधि के कर निर्धारण प्रकरण¨ं में निकाली गयी अतिरिक्त माँग की लंबित बकाया राशि के समाधान का प्रावधान रखा गया है। य¨जना 26 सितम्बर 2020 से 23 जनवरी 2021 तक के लिये है।
य¨जना के क्रियान्वयन के लिये 145 से अधिक वेबिनार/सेमिनार आय¨जित किये गये। इसी कड़ी में वेट के तहत पंजीकृत लगभग 3 लाख करदाताअ¨ं क¨ एसएमएस के माध्यम से य¨जना का लाभ लेने का आग्रह किया गया।
क्रमांक 257/2020 ——
प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र म¨दी द्वारा तीसरे ग्ल¨बल रिन्यूबल एनर्जी इन्वेस्टर्स मीट एक्सप¨ का शुभारंभ
मुख्यमंत्री श्री च©हान वीडिय¨ कांफ्रेंसिंग के जरिए शामिल हुए
श्योपुर, 27 नवंबर, 2020
प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र म¨दी ने नई दिल्ली में 26 से 28 नवंबर तक आय¨जित तीसरे ग्ल¨बल रिन्यूबल (नवीन एवं नवकरणीय) एनर्जी इन्वेस्टर्स मीट अ©र एक्सप¨ रि -इन्वेस्ट 2020का शुभारंभ किया।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह च©हान, नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा पर्यावरण मंत्री श्री हरदीप सिंह डंग, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव ऊर्जा श्री संजय दुबे वीडिय¨ कांफ्रेंसिंग के जरिए इस कार्यक्रम में शामिल हुए।
इस आय¨जन के शुभारंभ अवसर पर वीडिय¨ कांफ्रेंसिंग के जरिए नीदरलैंड एवं इजरायल के प्रधानमंत्री, डेनमार्क के ऊर्जा एवं पर्यावरण मंत्री, यूनाइटेड किंगडम के ऊर्जा सचिव, देश के प्रांत¨ं के मुख्यमंत्री, भारत सरकार के मंत्री गण, अ©र लेफ्टिनेंट गवर्नर शामिल हुए।
क्रमांक 258/2020 ——
ई-नगरपालिका प¨र्टल की समीक्षा के लिये समिति गठित
श्योपुर, 27 नवंबर, 2020
प्रमुख सचिव नगरीय विकास एवं आवास श्री नीतेश व्यास द्वारा नगर निगम एवं नगर पालिका परिषद¨ं/नगर परिषद¨ं में संचालित ई-नगरपालिका प¨र्टल की समीक्षा के लिये समिति गठित की गयी है। समिति में डाॅ. सुषमा दुबे वित्तीय सलाहकार नगरीय विकास एवं आवास अध्यक्ष ह¨ंगी। समिति में श्री स©रभ तिवारी लेखाधिकारी नगरीय प्रशासन एवं विकास संचालनालय, श्री अली म¨हम्मद कनिष्ठ लेखाधिकारी वित्तीय सलाकार नगरीय विकास एवं आवास अ©र श्री देवेन्द्र व्यास सहायक संचालक नगरीय प्रशासन एवं विकास संचालनालय सदस्य ह¨ंगे। श्री य¨गेन्द्र पटेल सहायक संचालक नगरीय प्रशासन एवं विकास संचालनालय सदस्य सचिव ह¨ंगे।
क्रमांक 259/2020 ——
//8//
र¨ग प्रतिर¨धक क्षमता के कारण कड़कनाथ की माँग बढ़ी
शासन ने तैयार की कड़कनाथ पालन य¨जना, लाभान्वित ह¨ंगे 300 अजजा सदस्य
श्योपुर, 27 नवंबर, 2020
क¨र¨ना काल में प्रदेश के प्रसिद्ध कड़कनाथ की देश में बढ़ती माँग क¨ देखते हुए राज्य शासन ने इसके उत्पादन अ©र विक्रय क¨ बढ़ाने के लिये विशेष य¨जना तैयार की है। इससे कुक्कुट पालक¨ं की आय में भी इजाफा ह¨गा। कड़कनाथ का शरीर, पंख, पैर, खून, मांस सभी काले रंग का ह¨ता है। र¨ग प्रतिर¨धक क्षमता के साथ कम वसा, प्र¨टीन से भरपूर, हृदय-श्वास अ¨र एनीमिक र¨गी के लिए लाभकारी है। कड़कनाथ पशुधन एवं कुक्कुट विकास निगम के अधिकृत विक्रेता चिकन पार्लर पर ल¨ग¨ं के लिये उपलब्ध है।
कड़कनाथ की विशेषताएँ
तत्व कड़कनाथ अन्य प्रजातियाँ
विकास का समय 90-100 दिन 40-45 दिन
वजन 1250 ग्राम/ 90-100 दिन 2 कि.ग्रा./40-45 दिन
क्रूड प्र¨टीन 25ः-27ः 17ः-18ः
कैल¨री 2400-2500 कैल¨री 3250-2800 कैल¨री
फैट 0.73 से 1.03: 13 से 25:
क¨लेस्ट्राल 184.75 मि.ग्रा./100 ग्राम 218.12 मि.ग्रा.
लिन¨लिक एसिड 24: 21 :
बीमारियाँ कम संक्रामक अधिक संक्रामक बेक्टीरियल एवं वाॅयरल बीमारियाँ
पालन से लाभ ब्राण्डेड वेल्यू तथा नियमित आय के साथ अधिक दर पर विक्रय सामान्य वेल्यू तथा कम दर¨ं पर विक्रय
अपर मुख्य सचिव पशुपालन श्री जे. एन. कंस¨टिया ने बताया कि कड़कनाथ कुक्कुट पालन क¨ सहकारिता के माध्यम से बढ़ावा देने के लिये कड़कनाथ के मूल जिल¨ं- झाबुआ, अलीराजपुर, बड़वानी अ©र धार जिल¨ं की पंजीकृत कड़कनाथ कुक्कुट पालन समितिय¨ं के अनुसूचित जनजाति के 300 सदस्य¨ं क¨ एन.एल.आर.एम. में प्रशिक्षण भी दिया गया है। झाबुआ जिले का चयन कड़कनाथ की मूल प्रजाति के लिये प्राप्त जी.आई. टेग के कारण किया गया है। य¨जना में 33 प्रतिशत महिलाअ¨ं क¨ स्थान दिया गया है।
क्रमांक 260/2020 ——
//9//
यूर¨पीय छाया से मुक्त करती है नई शिक्षा नीति
मिन्ट¨ हाॅल में हुआ नई शिक्षा नीति पर आधारित शिक्षा च©पाल का आय¨जन
श्योपुर, 27 नवंबर, 2020
वर्तमान शिक्षा नीति अ©पनिवेशिक काल की देन है। उस समय इसके उद्देश्य बहुत सीमित थे। आजादी के बाद शिक्षा नीति में कुछ बदलाव जरूर हुए, लेकिन इन पर भी मैकाले की छाया साफ दिखाई देती थी। लेकिन नई शिक्षा नीति राष्ट्र की आकांक्षा क¨ पूरी करने वाली है, यह हममें आत्म ग©रव का भाव जगाती है। यदि हम यह कहें कि नई शिक्षा नीति यूर¨प की छाया से पूर्णतः मुक्त है त¨ इसमें कतई अतिश्य¨क्ति नहीं है। इस आशय के विचार आज मिन्ट¨ हाॅल में मध्यप्रदेश प्रेस क्लब द्वारा नई शिक्षा नीति पर आधारित विचार सत्र ष्शिक्षा च©पालष् के आय¨जन के द©रान माध्यमिक शिक्षा मण्डल के अध्यक्ष श्री राधेश्याम जुलानिया ने व्यक्त किए।
अपने उद्ब¨धन में श्री जुलानिया ने आंकड़¨ं की मदद से वर्तमान शिक्षा की जमीनी हकीकत से परिचित कराया, उन्ह¨ंने शिक्षा की स्थिति एवं संसाधन¨ं पर प्रकाश डालते हुये कहा कि यह आल¨चना की नहीं, बल्कि आत्मावल¨कन की बात है। श्री जुलानिया ने कहा कि नई शिक्षा नीति परीक्षाअ¨ं की बाध्यता तथा पाठ्य सामग्री के चयन आदि में काफी रियायतें देती हैं जिससे शिक्षा में सुधार के रास्ते खुलते हैं।
मुख्य वक्ता राष्ट्रीय पुस्तक न्यास के अध्यक्ष एवं वरिष्ठ शिक्षाविद डाॅ. ग¨विन्द शर्मा ने कहा कि नई शिक्षा नीति हममें राष्ट्रवाद का भाव जगाती है। यह राष्ट्रीय आकांक्षा क¨ पूरा करने वाली है। आजादी के बाद बनी शिक्षा नीति में यूर¨पीय दृष्टि थी। समय-समय पर इसमें बदलाव जरूर हुये लेकिन यह मात्र पेचवर्क ही कहे जायेंगे। इस शिक्षा नीति में भारतीय दृष्टि है, ज¨ हमारी पारम्परिक चेतना क¨ विकसित करती है।
कार्यक्रम के विशेष अतिथि श्री अश¨क ग्वाल ने कहा कि यहाँ इस तरह स्कूली शिक्षा पर बात ह¨ रही है उसी तरह उच्च शिक्षा की स्थिति पर भी बातें ह¨ना चाहिए। वहीं डाॅ. भुवनेश शर्मा का कहना था कि शिक्षा बाहरी ज्ञान नहीं बल्कि भीतरी ज्ञान देने वाली ह¨ना चाहिए। नई शिक्षा नीति में भारत के पारम्परिक ज्ञान का समावेश है ज¨ इस कमी क¨ पूरी कर सकेगा। क©टिल्य अकादमी के डाॅ. मनम¨हन ज¨शी का कहना था कि नई शिक्षा नीति के मस©दे में कई बाते स्पष्ट नहीं ह¨ती इस पर भी चर्चा की जाना चाहिए ताकि शिक्षा नीति का ड्राफ्ट अ©र पुष्ट ह¨ सके। वरिष्ठ पत्रकार राकेश दुबे ने शिक्षा नीति के क्रियान्वयन में आने वाली जमीनी वास्तविकताअ¨ं की तरफ ध्यान खीचा।
आरंभ में प्रेस क्लब के अध्यक्ष डाॅ. नवीन आनंद ज¨शी ने स्वागत वक्तव्य देते हुए कहा कि नई शिक्षा नीति के लागू करने की तैयारिय¨ं तथा चुन©तिय¨ं क¨ सामने लाना तथा इस पर एक वैचारिक वातावरण तैयार करना इस कार्यक्रम का उद्देश्य है। उन्ह¨ंने कहा कि इसके पूर्व में प्रेस क्लब द्वारा क¨र¨ना क¨ लेकर भी प्रदेश भर में आय¨जन किये गये थे, जिसके अच्छे परिणाम सामने आये हैं। इसके पूर्व प्रधानमंत्री द्वारा लखनऊ विश्वविद्यालय में नई शिक्षा नीति पर दिये वक्तव्य क¨ शार्ट फिल्म के माध्यम से प्रस्तुत किया गया। कार्यक्रम का संचालन श्री अजय प्रताप सिंह ने किया। इस अवसर पर श्री नितिन वर्मा, श्री जसविन्दर सिंह, श्री मृगेन्द्र शर्मा, शहर के शिक्षाविद तथा पत्रकारिता जगत से जुड़े ल¨ग म©जूद थे।
क्रमांक 261/2020 ——
//10//
मध्यप्रदेश कराधान अधिनियम¨ं की पुरानी बकाया राशि का समाधान अध्यादेश 2020
श्योपुर, 27 नवंबर, 2020
वाणिज्यिक कर विभाग द्वारा प्रशासित वेट एवं अन्य पूर्व अधिनियम¨ं के अन्तर्गत लंबित बकाया राशि के समाधान के लिये राज्य शासन के वाणिज्यिक कर विभाग द्वारा मध्यप्रदेश कराधान अधिनियम¨ं की पुरानी बकाया राशि का समाधान अध्यादेश 2020 दिनांक 26 सितम्बर 2020 से लागू किया गया है। इस य¨जना में 31 मार्च 2016 की अवधि तक के कर निर्धारण प्रकरण¨ं में निकाली गई अतिरिक्त मांग की लंबित बकाया राशि के समाधान का प्रावधान रखा गया है।
यह य¨जना 26 सितम्बर 2020 से 23 जनवरी 2021 तक की अवधि (120 दिवस) के लिये है। य¨जना के समुचित क्रियान्वयन के लिये विभागीय अधिकारिय¨ं द्वारा कर सलाहकार¨ं/सी.ए./व्यापारिक संगठन¨ं के प्रतिनिधिय¨ं के साथ 145 से अधिक वेबिनार/सेमिनार के माध्यम से समुचित संवाद स्थापित कर बकाया समाधान य¨जना का अधिक से अधिक लाभ लेने का आग्रह किया गया है। इसी कड़ी में वेट के तहत पंजीयत रहे लगभग 3 लाख करदाताअ¨ं क¨ बल्क एसएमएस के माध्यम से य¨जना का लाभ उठाने का अनुर¨ध किया गया। प्रदेश के प्रमुख समाचार पत्र¨ं में विज्ञापन के जरिये य¨जना का प्रचार-प्रसार सुनिश्चित किया गया।
समाधान य¨जना में 60 दिवस, 90 दिवस अ©र 120 दिवस के भीतर आवेदन करने में पृथक्-पृथक् य¨जना के लाभ लिये जाने संबंधी प्रावधान किये गये हैं। य¨जना के 60 दिवस 24 नवम्बर 2020 क¨ पूरे ह¨ चुके हैं। य¨जना के इस प्रथम चरण में 16 हजार 500 आवेदन प्राप्त हुए हैं अ©र इन आवेदन¨ं के साथ 115 कर¨ड़ 30 लाख की राशि शासकीय क¨ष में जमा कराई गई है।
क्रमांक 262/2020 ——
पाॅजिटिव 04 मरीजों के घर क्षेत्र में काॅटेन्टमेंट एरिया घोषित
श्योपुर, 27 नवंबर, 2020
कलेक्टर श्री राकेश कुमार श्रीवास्वत ने मप्र पब्लिक हेल्थ एक्ट 1949 की धारा 71 (1) एवं 71 (2) में निहित शक्तियो का प्रयोग करते हुए श्योपुर के श्योपुर के 04 मरीजों के घर क्षेत्र में काॅटेन्टमेंट एरिया घोषित कर दिये है।
प्रभारी अपर कलेक्टर/एसडीएम श्री रूपेश उपाध्याय द्वारा जारी आदेश के अनुसार काटेन्टमेंट एरिया के अंतर्गत श्योपुर के मरीज श्री अतुल पुत्र श्री श्री मन्नीलाल श्रीवास्तव निवासी वार्ड 08 टेलीफोन एक्सचंेज के सामने श्योपुर के घर क्षेत्र में ऐपीसेंटर के पूर्व में जांगिड के मकान से मीणा जी के मकान तक एवं पश्चिम में चैधरी के मकान से सिकरवार के मकान तक, मरीज श्री हरिओम पुत्र श्री छोकरिया जाटव निवासी वार्ड 08 श्योपुर के घर क्षेत्र में ऐपीसेंटर के पश्चिम मे बोहरा जी टाईल्स वालों की दुकान से किराने की दुकान तक एवं पूर्व में आॅनलाइन शाॅपिग की दुकान से मकसूद डिस्क वाले के मकान तक, मरीज श्री मनीष पुत्र श्री रामस्वरूप शिवहरे निवासी कलेक्टेªट काॅलोनी श्योपुर के घर क्षेत्र में ऐपीसेंटर के दक्षिण में पचोरिया जी के मकान से मनीष के मकान तक एवं उत्तर में मुख्य मार्ग से मनीष के मकान तक एवं मरीज श्री दीपक पुत्र श्री केपी शर्मा निवासी बगवाज श्योपुर के घर क्षेत्र के ऐपीसेंटर व संपूर्ण जी-1 ब्लाॅक तक काॅटेन्टमेंट एरिया घोषित किया गया है।
इन 04 मरीजो के घर क्षेत्र के लिए इंसीडेन्ट कमाण्डर प्रभारी तहसीलदार श्योपुर श्री राघवेन्द्र कुशवाह मो.न. 9981778322 एवं राजस्व अधिकारी के रूप में राजस्व निरीक्षक वृत श्योपुर श्री टीएस लकडा मो.न. 9993624436 एवं पुलिस अधिकारी नगर निरीक्षक पुलिस कोतवाली श्योपुर श्री रामेश डाण्डे मो.न. 6260912609 तथा सीएमओ नगर पालिका श्योपुर सुश्री मिनी अग्रवाल मो.न. 9893972950 को जिम्मेदारी दी गई है।
क्मांाां

View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll To Top