Now Reading
दीवाली ने कैसे रोशन कर दी कचरे के ढेर में पड़े थानेदार की ज़िंदगी

दीवाली ने कैसे रोशन कर दी कचरे के ढेर में पड़े थानेदार की ज़िंदगी

मनीष मिश्रा दस नवम्बर की रात कचरे के ढेर में खाना तलाशते और ठंड से सिकुड़ते पुलिस अफसरों को मिले थे । वहीं खुलासा हुआ कि यह कोई भिखारी नही उन्ही का बैचमेट सब इंस्पेक्टर है । इसके बाद अब उनकी दीवाली गुलज़ार हो गई।
ग्वालियर । अपने पुराने दोस्तों से मिलने के बाद कभी शार्प शूटर और थानेदार रहे मनीष मिश्रा की ज़िंदगी वापिस पटरी पर लौटने लगी है । मनीष दस नवम्बर की रात कचरे के धार से सामान ढूंढतेऔर ठंड से सिकुड़ते पुलिस अफसरों को दिखा था । उसने उन अफसरों को नाम से पुकारकर चौंकाया था कि वह उनके साथ का ही थानेदार है । इसके बाद वे लोग उसे उपचार कराने ले गए । दीवाली मनाने उसके सारे बैचमेट जब साथ पहुंचे तो उसने सबको पहचान लिया ।
10 साल बाद गुमनामी के अंधेरे से बाहर आए दरोगा मनीष मिश्रा की जिंदगी भी अब पटरी पर लौटने लगी है। स्वर्ग सदन आश्रम में रह रहा है ।मनीष अब अपने पुराने साथियों को पहचानने लगा और बीते दिनों की बातें भी याद कर रहा है।  दीवाली की रात  मनीष मिश्रा से मिलने के लिए उनके बैच  के छह टीआई  स्वर्ग सदन आश्रम पहुंचे। ग्वालियर के थाना प्रभारी आसिफ मिर्जा बेग, EOW  इंस्पेक्टर सतीश चतुर्वेदी, टीआई राम नरेश यादव, सतीश भदोरिया, पंकज द्विवेदी स्वर्ग सदन आश्रम पहुंचे और मनीष मिश्रा से मुलाकात की। मनीष ने एक के बाद एक सभी को पहचान लिया और फिर पुराने दिनों की बातें निकल आई। मनीष ने उस दौर में अपने साथ रहे थाना प्रभारियों से पुलिसिंग को लेकर बातचीत की और अपने पुराने दिन भी याद किए। इस दौरान मनीष मिश्रा को अपने एक और बेच मेट शिव सिंह की याद आई तो उन्होंने आसिफ मिर्जा बेग से शिव सिंह के बारे में पूछा। आसिफ ने मनीष को बताया कि शिव सिंह इन दिनों भिंड जिले के मेहगांव थाने में टीआई है। मनीष की इच्छा पर आसिफ में फोन से  वीडियो कॉल के जरिए शिव सिंह से बात कराई। मनीष ने शिवसिंह से खूब बात की और  बच्चे और परिवार का हाल भी। मनीष से मिलने वाले उसके सभी बैचमेट्स थाना प्रभारियों का कहना है कि उन्हें उम्मीद है कि मनीष जल्द ही पूरी तरह से स्वस्थ होगा उनका इलाज होगा और उसके बाद वह वापस अपनी नौकरी में लौट आएंगे। गौरतलब है कि 10 नवंबर की रात मनीष कचरे में खाना तलाश  रहा था उसी दौरान उनके बैचमेट   रहे डीएसपी रत्नेश तोमर और विजय सिंह भदोरिया वहां से गुजरे। उन्होंने मनीष को ठंड से कांपते देख अपनी जैकेट दे दी। जब लौटने लगे तो मनीष ने DSP विजय सिंह भदोरिया को उनके नाम से पुकारा, तो साथी CSP रत्नेश तोमर हैरान रह गए उन्होंने पूछा कि तुम इनका नाम कैसे जानते हो तो मनीष ने रत्नेश तोमर को भी नाम से पुकारा तो उनकी हैरानी बढ़ गई आखिर जब उन्होंने बात की तो खुलासा हुआ कि ये उनका साथी मनीष मिश्रा है।
View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll To Top