Now Reading
सिंधिया ने कहा- मेरे पूज्य पिता और मैंने कभी राजनीति में छल-कपट का सहारा नहीं लिया, इसलिए लोग अनर्गल आरोप लगाते हैं

सिंधिया ने कहा- मेरे पूज्य पिता और मैंने कभी राजनीति में छल-कपट का सहारा नहीं लिया, इसलिए लोग अनर्गल आरोप लगाते हैं

भोपाल. भाजपा में शामिल होने के बाद से ही ज्योतिरादित्य सिंधिया पर विपक्ष उन्हें धोखेबाज और परिवार को देश से गद्दारी करने वाला जैसे गंभीर आरोप लगाता रहा है। अब सिंधिया ने इसका जवाब देते हुए कहा है कि ‘चाहे मेरे पूज्य पिताजी हों या मैं, हमने कभी भी राजनीति में छल-कपट का सहारा नहीं लिया, इसीलिए लोग हम पर अनर्गल आरोप लगाते हैं। मैंने खुद को पूरे विश्वास के साथ भारतीय जनता पार्टी को सौंप दिया है। अब यही मेरा परिवार है।

इससे पहले सिंधिया ने सोमवार को मुंगावली विधानसभा की वर्चुअल रैली को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने युवाओं को बेरोजगारी भत्ता तक नहीं दिया। जनता के साथ झूठा आश्वासन देकर सिर्फ और सिर्फ पैसा वसूला है। ऐसी सरकार को सड़क पर लाना हमारी जिम्मेदारी थी। हमारी जिम्मेदारी है कि जिन कौरवों ने जनता का पैसा लूटा है उन्हें इस चुनाव में जमकर सबक सिखाना है।

हम सब एक परिवार के सदस्य हैं: सिंधिया
सिंधिया ने भाजपा कार्यकर्ताओं से आह्वान किया कि हम सब एक परिवार के सदस्य हैं। हमारे यहां कोई नेता या कार्यकर्ता नहीं है। इस भावना के साथ हमें मिलकर काम करना है।

प्रदेश में टाइगर जिंदा है के बयान पर जमकर सियासत
2 जुलाई को शिवराज मंत्रिमंडल के विस्तार के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि ‘टाइगर जिंदा है।’ इसके बाद उनके बयान को लेकर जमकर सियासत हुई। दिग्विजय सिंह ने यहां तक कह दिया कि शेर का सही चरित्र आप जानते हैं? एक जंगल में एक ही शेर रहता है। ये भी कहा था कि पहले मैं माधवराव सिंधिया के साथ शेर के शिकार पर जाता था, अब शेर की फोटो उतारता हूं। वहीं कमलनाथ ने कहा था कि मैं न टाइगर हूं और न और कुछ। मैं कमलनाथ हूं। बाकी कौन टाइगर है, ये आने वाले चुनाव में जनता तय करेगी।

View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll To Top