Friday, January 22, 2021
ताज़ातरीनराजनीतिराज्य

गोविंद सिंह ने कहा सिंधिया समर्थक को न मिले राजस्व विभाग तो विश्नोई बोले कोई विभाग न दें

 

भोपाल । अनुशासन और आपसी सामंजस्य के लिए पहचानी जाने वाली भाजपा को इस बार की सरकार भारी पड़ रही है । लंबी कबायद के बाद जैसे- तैसे शिवराज सिंह ने अपने मन्त्रिमण्डल का विस्तार तो कर लिया लेकिन चार दिन बीतने के बावजूद विभागों का बंटवारा नही हो पा रहा है । विभागों की खींचतान भाजपा और सिंधिया के बीच चल रही थी कि अब इसमें कांग्रेस के अलावा भाजपा में मन्त्री बनने से वंचित नेता भी कूद पड़े है । कांग्रेस का कहना है सिंधिया तमाम जमीन हड़पना चाहते है इसलिए उनके समर्थक को राजस्व विभाग न दिया जाए जबकि भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने कहाकि उप चुनाव जीतने तक सिंधिया समर्थक किसी भी मन्त्री को विभाग ही नही दिया जाए । 
भारतीय जनता पार्टी ज्योतिरादित्य सिंधिया पर जमीन हथियाने के आरोप  पूरे जोर शोर से लगाती रही है । भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा ने तो ग्वालियर,भोपाल,गुना आदि में बाकायदा प्रेस कॉन्फ्रेंस लेकर श्री सिंधिया को भूमाफिया तक कह दिया था । स्वयं शिवराज सिंह ने शिवपुरी में बाकायदा एक विशाल रैली करके हाथ मे कागज लहराते हुए कहा था कि सिंधिया ने हजारों करोड़ की भूमि कांग्रेस सरकार में हथिया ली ।
अब वही आरोप कांग्रेस लगा रही है । अटकलें  है कि सिंधिया राजस्व विभाग अपने किसी समर्थक को दिलाने पर अड़े हैं । कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री डॉ गोविंद सिंह ने कल भोपाल में बड़ा बयान दिया । उंन्होने कहाकि सिंधिया समर्थक किसी मन्त्री को राजस्व विभाग न दिया जाए।
उनका आरोप है कि ग्वालियर में  शासकीय जमीन पर गजट नोटिफिकेशन के बावजूद सिंधिया ने करोड़ों की जमीन गलत तरीके से परिवार और ट्रस्ट के नाम एलॉट करा ली हैं । अगर राजस्व विभाग दे दिया तो वे उन पर दबाव बनाकर और जमीनें हड़प लेंगे । उंन्होने कहाकि सिंधिया परिवार सिर्फ सरकारी जमीन हड़पने के लिए दोनों दलों में मिला रहता था ।
उधर कांग्रेस ही नही भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के भी निशाने पर सिंधिया हैं । भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व स्वास्थ्य मंत्री डॉ अजय विश्नोई मन्त्री न बन पाने से खफा है । आज उंन्होने कहाकि सिंधिया समर्थक किसी भी मन्त्री को कोई विभाग अभी नही देना चाहिए । जब तक वे चुनाव जीतकर नही आ जाते तब तक सभी को बिना विभाग का मन्त्री रखना चाहिए ।

Leave a Reply