Wednesday, October 28, 2020
ताज़ातरीनदेश

लेह में नजर आए वायुसेना के फायटर जेट्स और चॉपर्स, IAF चीफ ने भी किया दौरा

लद्दाख में चीन सीमा पर गलवान में चीनी सैनिकों के साथ झड़प में 20 भारतीय सैनिकों की शहादत का बदला पूरा देश मांग रहा है। जहां एक तरफ इस मुद्दे को बातचीत से सुलझाने की कोशिशें हो रही हैं वहीं दूसरी तरफ सीमा पर हलचल भी तेज हुई है। दावा तो यह तक किया जा रहा है कि सीमा पर सैन्य गतिविधियां बढ़ी हैं। हालांकि, इसकी कोई पुष्टि नहीं हुई है। वहीं दूसरी तरफ वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने लेह लद्दाख का दौरा किया है साथ ही इस इलाके के वायुसेना के फायटर जेट्स और चॉपर्स नजर आए हैं।

चीन से सीमा पर तनाव को देखते हुए वायुसेना चीफ ने आरकेएस भदौरिया लेह-लद्दाख पहुंचे और दो दिन का ताबड़तोड़ दौरा करते हुए हालात का जायजा लिया है। वहीं खबर है कि भारतीय वायुसेना का फायटर जेट्स को अग्रिम चौकियों पर बढ़ाया गया है। किसी भी स्थिति में लेह और लद्दाख चीन सीमा की अहम चौकियां होंगी जहां से ऑपरेशन्स को ठीक से अंजाम दिया जा सकेगा।

इस बीच इलाके में सैन्य चॉपर और फायटर जेट्स उड़ान भरते हुए देखे गए हैं। हालांकि, यह साफ नहीं है कि यह रूटिन उड़ानें थी या किसी और मकसद से। लेकिन चीन के साथ तनाव को देखते हुए इस सब को काफी अहम माना जा रहा है। खबर यह भी है कि वायु सेना ने सुखोई -30 एमकेआई, मिराज 2000 और जगुआर लड़ाकू विमान बेड़े सहित अपने महत्वपूर्ण सामानों को उन्नत पदों पर स्थानांतरित कर दिया है जहां वे बहुत कम समय में उड़ान भर सकते हैं।

सूत्रों ने बताया कि अपनी यात्रा के पहले दिन चीफ 17 जून को लेह में थे और वहां से वे 18 जून को श्रीनगर एयरबेस गए थे। ये दोनों ठिकाने पूर्वी लद्दाख क्षेत्र के सबसे करीब हैं और पहाड़ी इलाके में किसी भी लड़ाकू विमान के संचालन के लिए सबसे अनुकूल हैं और चीनी पर भी स्पष्ट नजर रखते हैं।

Leave a Reply