Now Reading
अब अपने ही गढ़ में पोस्टर से गायब हुए सिंधिया

अब अपने ही गढ़ में पोस्टर से गायब हुए सिंधिया

 

भाजपा ने शहर पोस्टरों से पाटा लेकिन सिंधिया ने न नाम न किसी पर फ़ोटो
 उप चुनाव सिर पर है लेकिन कमलनाथ सरकार गिराकर फिर से भाजपा को सत्ता में लौटाने वाले सिंधिया परिवार के ‘श्रीमंत’ अभी भाजपा में एकाकार नही हो पा रहे । एक जमाना था जब ग्वालियर में कांग्रेस में उनका विरोधी भी बगैर उनके फ़ोटो के कोई पोस्टर बेनर और होर्डिंग लगा पाने की हिमाकत नही करता था वही भाजपा में उन्हें अपने ही गढ़ ग्वालियर में हॉडिंग्स में कही कोई जगह नही मिल रही है । इससे उनके समर्थक निराश है और भाजपा मौन?
ग्वालियर बीते कुछ दिनों से भाजपा के होर्डिंग्स से पटा पड़ा है । बजह है केंद्रीय मंत्री और प्रदेश भाजपा के सबसे कद्दावर नेता नरेंद्र सिंह तोमर का जन्मदिन । दरअसल आगामी 12 जून को श्री तोमर का जन्मदिन है । इस बार यह जलसा कुछ खास है क्योंकि इस बार अंचल में कॉंग्रेस ने ऊंची पायदान वाले नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया अब भाजपा में आ गए है। श्री तोमर के समर्थक ही नही भाजपा भी बगैर बताए साफ करना चाहती है कि भाजपा में तोमर का कद बहुत बड़ा है और किसी के आने जाने से इस पर कोई फर्क नही पड़ा है । यह संदेश देने के लिए 12 जून को उनका जन्मदिन बड़े स्तर पर मनाना तय हुआ । हालांकि अभी तय नही है कि कोरोना संक्रमण के चलते श्री तोमर उस दिन ग्वालियर में रहेंगे भी यहां नही कदाचित इसकी तैयारी शुरू की गई । 
इसके चलते पूरे शहर को जन्मदिन की शुभ कामनाओं वाले होर्डिंग्स से पाट दिया गया है । इसमें दो तरह के होर्डिंग्स है  । कुछ जिला भाजपा द्वारा लगाए गए है तो दर्जनों तोमर समर्थकों द्वारा । इन दोनों में एक बात जो समान है वह ये कि इनमे से किसी मे भी श्री सिंधिया का न फ़ोटो है और न नाम । भाजपा संगठन ने जो होर्डिंग लगाए है उसमें सिर्फ श्री तोमर का नाम और फ़ोटो है और उन्हें जिला भाजपा की तरफ से जन्मदिन की बधाई दी गई है । वही श्रीतोमर समर्थकों के होर्डिंग्स में पीएम,सीएम से लेकर अनेक छोटे बड़े भाजपा नेताओं के नाम और फ़ोटो हैं । अनेक में श्री तोमर के दोनों पुत्रों के भी नाम और फोटो है लेकिन श्री सिंधिया का किसी मे न तो नाम है और न फ़ोटो ।
भाजपा के इस रवैये से सिंधिया समर्थक हालांकि खुल कर कुछ नही बोल रहे लेकिन वे खासे दुःखी और नाराज है । वे इससे आहत और उपेक्षित भी है । लेकिन कांग्रेस इसमें मजे ले रही है । कांग्रेस प्रवक्ता आरपी सिंह का कहना है अपना घर वह भी विश्वासघात करके   छोड़कर जाने पर ऐसे दिन देखने ही पड़ते है । वैसे यह तो उनकी उपेक्षा और कद छोटा होने का आगाज़ भर है देखते जाइये आगे – आगे होता है क्या?
भाजपा के महानगर अध्यक्ष कमल माखीजानी इस मामले को बिना बजह तूल देने की बात कहते है । बकौल कमल माखीजानी- भाजपा संगठन ने जो होर्डिंग लगाए है उस पर सिर्फ हमारे नेता नरेंद्र तोमर का ही फ़ोटो और नाम है । उसमें उनके अलावा किसी का कुछ भी नही है क्योंकि जन्मदिन उनका है तो कुछ लोग नही पूरी पार्टी उसे माना रही है । वहीं जो होर्डिंग समर्थक और शुभचिंतकों ने लगाए है ये उनकी भावना की अभिव्यक्ति है । जहां तक सिंधिया जी का सवाल है वे पार्टी के वरिष्ठ नेता है और उन्हें पार्टी में यथोचित सम्मान है ।
कांग्रेस में नही लग सकता था कोई होर्डिंग
कुछ महीनों पुरानी ही बात है जब कांग्रेस सियासत में सिंधिया के नाम के बगैर यहां पत्ता भी नही हिल सकता था । यहां तक कि उनके विरोधी माने जाने वाले लोगो को अपवाद को छोड़कर उनके आसपास मंडराना पड़ता था और सिंधिया के फोटो और उस पर ” श्रीमंत ” सिंधिया के नाम के फॉन्ट में भी कमी होने पर उनके समर्थक मोर्चा खोल लेते थे । लेकिन अब वे दुःखी भी और खामोश भी रहना पड़ रहा है ।
    कल इंदौर में भी था महाराज का फोटो
यह पहला मौका नही है कल इंदौर में तुलसी सिलावट के चुनाव प्रचार अभियान को लेकर हुई बैठक में भी पीछे लगे होर्डिंग पर भाजपा नेताओं के फोटो और नाम वाली कतार में सिंधिया का न तो नाम लिखा था और न ही उनका फ़ोटो लगा था ।
View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll To Top