Tuesday, October 27, 2020
ताज़ातरीनराज्य

निसर्ग का असर हुआ कमजोर,: रात भर रहा बादलों का डेरा सुबह निकली धूप

निसर्ग का असर हुआ कमजोर,: रात भर रहा बादलों का डेरा सुबह निकली धूप

ग्वालियर. अरब सागर में सक्रिय निसर्ग चक्रवाती तूफान के कारण अंचल में बादलों ने शहर में रात तक डेरा जमाए रखा लेकिन बरसे नहीं। इसका कारण बादलों को भरपूर नमी नहीं मिलना है। आलम यह रहा कि गुरुवार जब लोग सोकर उठे तो तेज धूप ने गरमी का अहसास करा दिया ।

मौसम विभाग के अनुसार बुधवार रात से पश्चिमी मप्र में सिस्टम सक्रिय हो गया है, जिससे सीजन की पहली तेज प्री-मानसून बारिश की संभावना बनी है। गुरुवार को 40-50 मिमी बारिश होने की संभावना है। पश्चिमी विक्षोभ के असर से पश्चिमी राजस्थान के ऊपर चक्रवाती घेरा बना हुआ है। अरब सागर से आने वाले सिस्टम से यदि चक्रवाती घेरे का मिलाप होता है तो शुक्रवार को भी बारिश होगी।

दिन का पारा सामान्य से 4 डिग्री नीचे पहुंचा
दिन का तापमान सामान्य से 4 डिग्री नीचे पहुंचने के कारण गर्मी से राहत रही। हालांकि पिछले वर्ष 3 जून को 44.6 डिग्री तापमान दर्ज हुआ था। पूरा अंचल लू की चपेट में था। पिछले दिन की तुलना में अधिकतम तापमान 0.1 डिग्री बढ़त के साथ 38.6 डिग्री दर्ज किया गया। यह सामान्य से 4 डिग्री कम रहा। जबकि न्यूनतम तापमान 3.4 डिग्री बढ़त के साथ 27 डिग्री दर्ज किया गया। यह सामान्य से 1.3 डिग्री कम रहा। सुबह की आर्द्रता 46 फीसदी रही। यह सामान्य से 11 फीसदी अधिक रही। जबकि शाम की आर्द्रता 41 फीसदी रही। यह सामान्य से 21 फीसदी अधिक रही।

आज अच्छी बारिश होने की संभावना है

तीव्र चक्रवाती तूफान निसर्ग बुधवार को महाराष्ट्र के अलीबाग के दक्षिण में दोपहर 3:30 बजे के बीच समुद्र तट को पार कर गया। अब इस तूफान के उत्तर पूर्व दिशा की ओर बढ़ने की संभावना है जो तीव्र चक्रवाती तूफान से चक्रवाती तूफान में बदलने की संभावना है। इससे दक्षिण मप्र, इसमें इंदौर होशंगाबाद संभाग के साथ जबलपुर भोपाल, उज्जैन एवं सागर संभाग के कुछ जिले प्रभावित होंगे। वहीं ग्वालियर-चंबल संभाग में गुरुवार को गरज-चमक के साथ अच्छी बारिश की उम्मीद है।

Leave a Reply