Sunday, October 25, 2020
ताज़ातरीनराज्य

लॉक डाउन खुला लेकिन बिगड़ा मिठाई का जायका, दामों में वृद्धि

कोरोना काल में मुंह मीठा करना महंगा हो गया है। मिठाइयों की ऑनलाइन डीलिवरी करने वाले मिष्ठान भंडार मिठाइयों को 15 से 20 प्रतिशत तक महंगा बेच रहे हैं। मिठाई विक्रेताओं के मुताबिक कोरोना से बचाव के लिए मिठाइयां बनाने वाले हलवाइयों व हेल्परों को मास्क, सैनिटाइर, दस्ताने व हाथ धोने के लिए साबुन उपलब्ध कराने पड़ रहे हैं। इससे मिठाइयों को बनवाने में मावा, बेसन, दूध, ड्रायफ्रूट्स सहित अन्य सामग्री के अलावा अलग से खर्च बढ़ गया है। ऑनलाइन डीलिवरी देने में पेट्रोल में पैसे भी खर्च हो रहे हैं, इसलिए मिठाइयां महंगी बेचनी पड़ रही हैं

लॉकडाउन पार्ट-4 में शहर के मिष्ठान भंडारों को मिठाइयों की ऑनलाइन डीलिवरी करने और दुकानों के बाहर से ग्राहकों को मिठाई बेचने की अनुमति मिली है। शहर के करीब 100 मिष्ठान भंडार ही ऑनलाइन मिठाइयों की डीलिवरी कर पा रहे हैं। इतने ही विक्रेता दुकानों के बाहर सुरक्षित शारीरिक दूरी बनाकर मिठाइयां बेच रहे हैं।

मिठाई कारोबारी घनश्याम ने बताया कि लॉकडाउन के कारण करोड़ों रुपये का कारोबार प्रभावित हुआ है। मावा, बेसन, मैदा, रवा सहित अन्य कच्चे माल का नुकसान भी हुआ है। अनुमति मिलने पर ऑनलाइन मिठाइयों की डीलिवरी कम ही मिष्ठान भंडार वाले कर पा रहे हैं। मिठाइयां बनवाने की सामग्री के अलावा सैनिटाइज, दस्ताने, साबुन का खर्चा अलग से लग रहा है। ऑनलाइन मिठाईयां पहुंचाने पेट्रोल भी लगता है। इससे ऑनलाइन मिठाइयां 15 से 20 प्रतिशत महंगी हो गई हैं। दुकानों के बाहर लेने पर पुराने भाव से ही मिठाइयां मिल रही हैं।

Leave a Reply