ग्वालियर।

मालवा तिराहे के पास श्रीकृष्णायन देशी गोरक्षाशाला के संतों द्वारा समाजसेवियों की मदद से की जा रही 24 घंटे की लंगर सेवा को देखकर एडीजीपी राजाबाबू सिंह ने संतोष व्यक्त करते हुए सेवाकार्य भी किया। उनके साथ पुलिस के अन्य अधिकारियों ने भी अपने साथियों के साथ पहुंचकर वहां पर सेवा कार्य किया।

मालवा कॉलेज तिराहे के पास हाइवे से गुजरने वाले प्रवासी मजदूरों के लिए संतों ने पंजाबी परिषद सहित विभिन्न सामाजिक संगठनों की मदद से लंगर सेवा प्रारंभ की है। यह लंगर सेवा 24 घंटे संचालित होती है, इस दौरान सड़क से गुजरने वाले पैदल यात्री, बसों एवं ट्रकों में जाने वाले मजदूरों को रोक-रोक कर भोजन, शर्बत, पानी आदि की व्यवस्था कराई जाती है। शनिवार को एडीजीपी राजाबाबू सिंह भी पहुंचे। वहां पर पहले उन्होंने संतों से लंगर की सारी व्यवस्था को समझा कि किस प्रकार वहां पर सुरक्षित शारीरिक दूरी का पालन किया जा रहा है। इसके बाद उन्होंने वहां पर चल रहे लंगर के बारे में जाना और फिर वहीं पर सेवा कार्य भी किया। साथ ही किसी भी प्रकार की जरूरत होने पर मदद करने का भी आश्वासन दिया।

भाजपा ने पहनाई मजदूरों को चप्पल खिलाया भोजन

मालवा कॉलेज तिराहे पर ही भाजपा ने भी लंगर सेवा प्रारंभ की है। इसमें भाजपा कार्यकर्ताओं ने बसों और ट्रकों से आ रहे मजदूरों को भोजन कराया। साथ ही वहां से नंगे पैर अथवा टूटी चप्पल पहनकर जा रहे मजदूरों को नई चप्पल भी पहनाई। इस सेवाकार्य में कोटेश्वर मण्डल और वीर सावरकर मण्डल की विशेष भूमिका रही। लोगों को भोजन कराने वालों में जिलाध्यक्ष कमल माखीजानी, पूर्व मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, डॉ. सतीश सिकरवार, कनवर मंगलानी, राकेश गुप्ता, राकेश खुरसिया, अशोक गेंडा, आदि शामिल थे।