Thursday, October 22, 2020
ताज़ातरीनदेश

दिल्ली हिंसा पर चर्चा की मांग को लेकर राज्यसभा में हंगामा

नई दिल्ली. संसद सत्र के दूसरे चरण का पांचवां दिन (शुक्रवार) भी हंगामेदार रहा। राज्यसभा में विपक्ष ने भारी हंगामा किया, इसके चलते सभापति वेंकैया नायडू ने 11 मार्च तक सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी। इससे पहले राहुल गांधी समेत कांग्रेस नेताओं ने गांधी प्रतिमा के सामने प्रदर्शन किया। ‘गृह मंत्री इस्तीफा दो’ और ‘दिल्ली को इंसाफ दो’ के नारे लगाए।

कांग्रेस समेत विपक्ष दिल्ली हिंसा पर सदन में चर्चा की मांग कर रहा है। कांग्रेस विपक्ष लगातार दिल्ली हिंसा पर चर्चा की मांग कर रहा है। संसदीय कार्यमंत्री प्रह्लाद जोशी 11 मार्च को लोकसभा और 12 मार्च को राज्यसभा में दिल्ली हिंसा पर चर्चा कराने की बात कह चुके हैं। 2 मार्च से शुरू हुए सत्र में लगातार कार्यवाही बाधित हो रही है।

शुक्रवार को कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद और सपा के रामगोपाल यादव ने राज्यसभा और कांग्रेस के अधीर रंजन चौधरी और के सुरेश ने लोकसभा स्थगन प्रस्ताव दिया था। वहीं, बीजद की मांग की कि ओडिशा के पूर्व मुख्यमंत्री बीजू पटनायक को भारत रत्न दिया जाए। इसके लिए शून्यकाल में चर्चा करने का प्रस्ताव रखा था।

गुरुवार को कांग्रेस के 7 सांसद सत्र से निलंबित
गुरुवार को दोपहर बाद स्पीकर बिड़ला ने कांग्रेस के 7 सांसदों गौरव गोगोई, टीएन प्रतापन, डीन कुरियाकोस, आर उन्नीथन, मणिकम टैगोर, बेनी बेनन और गुरजीत सिंह औजला को पूरे सत्र के लिए निलंबित कर दिया। उधर, राज्यसभा में शून्यकाल के दौरान सभापति वैंकेया नायडू नारेबाजी से नाराज हो गए। उन्होंने सांसदों से कहा कि ये संसद है, कोई बाजार नहीं।

Leave a Reply