Now Reading
TERI के पूर्व चेयरमैन पर्यावरणविद आर के पचौरी का निधन

TERI के पूर्व चेयरमैन पर्यावरणविद आर के पचौरी का निधन

नई दिल्ली।  ख्यात पर्यावरणविद और द एनर्जी एंड रिसोर्स इंस्टिट्यूट (TERI) के संस्थापक डॉ. आर के पचौरी का गुरुवार को निधन हो गया। 79 वर्षीय पचौरी दिल्ली की एक निजी अस्पताल में भर्ती थे और पिछले समय से दिल की पुरानी बीमारी से जुझ रहे थे।

बता दें कि पचौरी की कुछ समय पहले ही ओपन हार्ट सर्जरी हुई थी। उन्हें गत वर्ष जुलाई में मेक्सिको में हार्ट अटैक आया था। सर्जरी के बाद से उनकी हालत लगातार नाजुक बनी हुई थी और उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था। बुधवार को उनकी परेशानी बढ़ गई और देर रात उनका निधन हो गया। वे दिल्ली के एस्कार्ट्स हार्ट इंस्टीट्यूट में भर्ती थे।

पचौरी 2002 से 2015 तक इंटरगर्वमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज (IPCC) के चेयरमैन रहे। उनके ही कार्यकाल में IPCC को नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। 20 अगस्त 1940 को नैनीताल में जन्में पचौरी ने बिहार के जमालपुर स्थित इंडियन रेलवे इंस्टिट्यूट ऑफ मकैनिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग से पढ़ाई की थी। इसके बाद पचौरी ने आगे की पढ़ाई अमेरिका की जहां उन्होंने इंडस्ट्रियल इंजीनिरिंग और अर्थशास्त्र में पीएचडी की।

अपने संस्थापक के निधन पर TERI की ओर से दुख व्यक्त किया गया। TERI के चेयरमैन नितिन देसाई ने कहा- वैश्विक स्थायी विकास के लक्ष्य की ओर बढ़ने में उनका अहम योगदान रहा। TERI की ओर से कहा – दुख की इस घड़ी में पूरा TERI परिवार पचौरी के परिवार से साथ है। पयार्वरण के प्रति उनके योगदान के लिए पचौरी को साल 2001 में पद्मभूषण और साल 2008 में पद्म विभूषण सम्मान दिया गया।

हालांकि पचौरी विवादों में भी रहे। 2015 में उनकी एक पूर्व महिला सहयोगी ने उनपर यौन उत्पीड़न के गंभीर आरोप लगाए थे, जिसके चलते उन्हें TERI के प्रमुख पद से इस्तीफा देना पड़ा था। पचौरी ने लगातार इन आरोपों को गलत बताया था।

View Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll To Top