Saturday, January 25, 2020
ताज़ातरीनदेश

आतंकवाद के खिलाफ हमें भी उसी तरह कदम उठाने होंगे, जैसा अमेरिका ने 9/11 के बाद किया-सीडीएस रावत

नई दिल्ली. सीडीएस जनरल बिपिन रावत ने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ युद्ध अभी खत्म नहीं हुआ है। हमें इसे तब तक जारी रखना होगा, जब तक इसकी जड़ तक न पहुंच जाएं। रावत ने रायसीना डायलॉग के दूसरे दिन के कार्यक्रम में कहा, “हमें आतंकवाद के खात्मे के लिए ठीक उसी तरह के प्रयास करने होंगे, जैसा अमेरिका ने 9/11 की घटना के बाद किया था। हम सबको इसके खिलाफ एक वैश्विक युद्ध शुरू करना होगा। आतंकवादियों को अलग-थलग करना होगा। जो देश इसे बढ़ावा दे रहें हैं, उन्हें भी सबक सिखाना होगा।”

पाकिस्तान का नाम लिए बगैर रावत ने कहा, “आतंकी गतिविधियां लंबे समय से जारी हैं और यह किसी खास देश द्वारा चलाई जा रही हैं। वे आतंकियों को छद्म युद्ध के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं। वे उन्हें हथियार और धन मुहैया करा रहे हैं। इसके कारण हम आतंकवाद पर काबू पाने में कामयाब नहीं हो पा रहे, इसलिए हमें उनके खिलाफ कार्रवाई करनी होगी।” उन्होंने यह भी कहा, “मुझे लगता है कि फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) द्वारा ब्लैकलिस्ट करना एक महत्वपूर्ण कदम हो सकता है और साथ ही उसे कूटनीतिक रूप से अलग-थलग करना भी जरूरी है।”

एफएटीएफ ने पाकिस्तान को आतंकियों पर उचित कार्रवाई न करने के कारण 2018 में ग्रे लिस्ट में डाला था। पिछले साल अक्टूबर में हुई बैठक में उसे ब्लैकलिस्ट से बचने के लिए फरवरी 2020 तक का डेडलाइन दिया गया है। उसे इस दौरान आतंकियों के खिलाफ उचित कार्रवाई करनी होगी। अगर पाकिस्तान को ब्लैकलिस्टेड किया जाएगा, तो उसे विश्व बैंक समेत अन्य देशों से भी वित्तीय मदद हासिल नहीं हो पाएगी।

Leave a Reply