Tuesday, October 20, 2020
ताज़ातरीनराज्य

जेके लोन अस्पताल में बच्चों की मौत का आंकड़ा 35 दिन में 107 पर पहुंचा

कोटा. शहर के जेके लोन अस्पताल में मरने वाले बच्चों का आंकड़ा 35 दिनों में 107 पहुंच गया। शनिवार सुबह एक और नवजात बच्ची ने दम तोड़ा। वहीं, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला भी पीड़ित परिवारों से मिलने कोटा पहुंचे। इस दौरान जोधपुर एम्स की टीम भी अस्पताल पहुंची। टीम ने डॉक्टरों, कर्मचारियों से चर्चा करने के साथ-साथ वहां की व्यवस्था का भी जायजा लिया। इससे पहले शुक्रवार सुबह दो बच्चियों की मौत हुई थी।
दरअसल, राज्य सरकार ने बच्चों की मौत के मामले में जांच कमेटी गठित की थी। कमेटी की रिपोर्ट के मुताबिक, बच्चों की मौत का मुख्य कारण हाइपोथर्मिया बताया गया है। इसके अलावा अस्पताल के लगभग हर तरह के उपकरण और व्यवस्था में खामियां बताई गई हैं।

ऑक्सीजन लाइन के लिए आया पैसा कहां खर्च हुआ, पता नहीं

शुक्रवार को स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने अस्पताल प्रबंधन के साथ बजट पर चर्चा की। इस दौरान पता चला कि हर खाते में पैसा पड़ा है। एनएचएम के खाते में 1 करोड़ रुपए हैं जबकि भामाशाह और आरएमआरएस खाते में भी पैसा है। नवजात बच्चों के पीआईसीयू की सेंट्रल ऑक्सीजन लाइन के लिए 22.80 लाख रुपए की स्वीकृति दी गई थी, इसमें से 15 लाख रुपए सीएमएचओ ने अप्रैल में ही ट्रांसफर कर दिए। लेकिन, यह पैसा भी पूरा खर्च नहीं किया गया, सिर्फ 8.50 लाख रुपए का उपयोगिता प्रमाण पत्र (यूसी) भेजा गया।

Leave a Reply