Friday, October 23, 2020
ताज़ातरीनराज्य

ठंड के चलते सुबह 10 बजे तक रेंग-रेंग कर चले वाहन

सर्द हवाओं ने धूप का असर भी किया बेअसर
ग्वालियर। ग्वालियर रीजन में पड़ रही कडाके की ठंड ने यहंा लेागों को कंपकंपाने पर मजबूर कर दिया है रात में जहंा पारा सामान्य से कहीं नीचे जा रहा है वहीं दिन में भी सर्द हवाओं और कोहरे के असर के चलते लोग ठंड से कराहते देखे जा रहे है। आलम यह रहा कि सुबह 10 बजे तक सडकों पर कोहरे के असर के चलते वाहन रेंग-रेंग कर चलते रहे और सर्द हवाओं के चलते धूप भी बेअसर दिखी।
इन दिनों लोगों को दिन व रात में शहरवासियों को हाड़ कंपाने वाली सर्दी का सामना करना पड़ा। सुबह के समय कोहरा भी काफी घना छाया था। इससे 50 मीटर दूर का सब कुछ ओझल रहा। 5 घंटे बाद सूरज के दर्शन हुए, लेकिन सर्द हवाओं ने धूप को भी बेअसर कर दिया। न्यूनतम तापमान में गिरावट आने से 6.8 डिसे रिकार्ड हुआ। दिन व रात का तापमान सामान्य से नीचे आने की वजह से अति शीतल दिन रहा। प्रदेश में सबसे ठंडा ग्वालियर रहा। उसके बाद दतिया व शिवपुरी भी ठंडे रहे। यहंा बता दें कि गत दिवस हुई बारिश व बादलों की वजह से मौसम में बदलाव आ गया। बारिश की वजह से वातावरण ठंडा हो गया। हवा में नमी बढ़ गई। इस वजह से अति शीतल दिन रहा। अति शीतल दिन होने से दिनभर कड़ाके की सर्दी रही। धूप भी ज्यादा राहत नहीं पहुंचा पा रही थी। इसके अलावा शाम को सर्द हवाएं चलीं, जिसकी वजह से कड़ाके की ठंड का सामना करना पड़ा। अधिकतम तापमान सामान्य से 6.7 डिग्री सेल्सियस कम रहा। न्यूनतम तापमान 0.2 डिसे कम रहा। सूर्य अस्त होने के बाद कोहरे छाना शुरू हो गया था। मौसम विभाग के अनुसार अगले 24 घंटे में घना कोहरा छाने की संभावना है।

इस बार दिसंबर ज्यादा ठंडा

वैसे दिसंबर में दिन ज्यादा ठंडा नहीं रहता है, लेकिन इस बार 16 दिसंबर से लगातार दिन ठंडा बना हुआ है। अति शीतल दिन भी रहा है। यह ठंडक बारिश की वजह से बढ़ी है। साथ ही जम्मू-कश्मीर से पश्चिमी विक्षोभ गुजरने से भी बदलाव आया है।कड़ाके की ठंड से फिलहाल राहत की उम्मीद नहीं दिख रही है। जनवरी में ठंड ज्यादा बढ़ेगी। क्योंकि पश्चिमी विक्षोभ फिर से आने वाले हैं। इससे बर्फीली हवा से शीत लहर चलने की संभावना है।

Leave a Reply