Monday, October 26, 2020
देश

मुस्लिम-लेफ्ट संगठनों का बंद; बिहार में ट्रेनें रोकी गईं, बेंगलुरु में प्रदर्शन

नई दिल्ली. नागरिकता कानून के विरोध में गुरुवार को वामदलों और मुस्लिम संगठनों ने कर्नाटक, बिहार समेत देश के अन्य राज्यों में बंद बुलाया। इस दौरान बिहार के पटना, दरभंगा समेत कई शहरों में माकपा कार्यकर्ताओं ने रेलवे ट्रैक जाम कर दिया। उधर, दिल्ली में धारा 144 के बावजूद प्रदर्शन करने वाले कई लोग हिरासत में लिए गए। डीएमआरसी ने एहतियातन राजधानी के 7 मेट्रो स्टेशन बंद कर दिए हैं। कर्नाटक में तीन दिन (21 दिसंबर रात तक) धारा 144 लागू रहेगी। बेंगलुरु में प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने इतिहासकार रामचंद्र गुहा को हिरासत में ले लिया।

अपडेट्स

दिल्ली: लालकिला के आसपास धारा 144 लगाई गई। इसके बावजूद भारी संख्या में प्रदर्शनकारी यहां जमा हो गए। पुलिस ने कई लोगों को हिरासत में लिया। प्रदर्शन के मद्देनजर डीएमआरसी ने पटेल चौक, लोक कल्याण मार्ग, उद्योग भवन, आईटीओ, प्रगति मैदान, खान मार्केट और केंद्रीय सचिवालय मेट्रो स्टेशन बंद किए। जामिया और सीलमपुर में हिंसक प्रदर्शन के बाद पुलिस ने संवेदनशील इलाकों में फ्लैग मार्च किया।

बिहार: नागरिकता कानून के खिलाफ बंद में प्रदेश के कई शहरों में प्रदर्शन हुआ। माकपा कार्यकर्ताओं ने दरभंगा और पटना में रेलवे ट्रैक और हाईवे जाम कर दिए।

कर्नाटक: कलबुर्गी में लेफ्ट और मुस्लिम संगठनों ने काले झंडे दिखाकर प्रदर्शन किया। पुलिस ने 20 लोगों को हिरासत में लिया। बेंगलुरु में प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने इतिहासकार रामचंद्र गुहा को हिरासत में लिया। राज्य में बंद के चलते पुलिस मुस्तैद है। बेंगलुरु, कलबुर्गी, दक्षिण कन्नड़ और उसके आसपास के जिलों में अगले तीन दिन (21 दिसंबर रात तक) धारा 144 लागू रहेगी। मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने कहा- इस प्रदर्शन और बंद के पीछे कांग्रेस का हाथ है। उनके नेता प्रदर्शन को सपोर्ट कर रहे हैं। मुस्लिमों की जिम्मेदारी भी मुझ पर है। मैं सभी लोगों से शांति बनाए रखने की अपील करता हूं।

Leave a Reply