Home / ब्रेकिंग न्यूज़ / किराए की खोली छोड़ जगदीश रहेगा अब आलीशान फ्लेट में

किराए की खोली छोड़ जगदीश रहेगा अब आलीशान फ्लेट में

 

ग्वालियर ।जगदीश ने जीवन भर जी-तोड़ मेहनत की। दिहाड़ी मजदूरी कर घर का खर्च चलाया और तीन बेटियों के हाथ भी पीले किए। अपनी सामर्थ्य के अनुसार तीनों बेटियों और दो बेटों को पढ़ाया भी। जगदीश अब वृद्धावस्था में पहुँच गए हैं। युवावस्था में अपने लिए एक पक्के घर का सपना संजोया था, जिसे वे चाहकर भी पूरा नहीं कर पा रहे थे। इसकी पीड़ा उनके मन में सदैव बनी रहती। मगर वे अब एक खूबसूरत फ्लैट के मालिक बन गए हैं।

 

 

 

 

 

 

उपनगर ग्वालियर, हजीरा, रसूलाबाद व अन्य समीपवर्ती बस्तियों में किराए के झोंपड़ीनुमा घरों में रहते-रहते श्री जगदीश सविता किशोरावस्था से वृद्धावस्था में पहुँच गए। घर की माली हालत ठीक नहीं थी, सो जबसे होश संभाला, तब से ही मेहनत मजदूरी में जुट गए। जगदीश बताते हैं कि ज्यादातर फलों के गोदाम पर उन्होंने दिहाड़ी मजदूरी की। बड़ा बेटा शादी के बाद अलग रहने लगा। छोटा बेटा भी कमाने लगा मगर उसकी कमाई इतनी नहीं थी, जिससे पक्के घर का सपना पूरा हो सके।

 

 

 

 

 

जगदीश बताते हैं कि एक दिन गोदाम पर कुछ लोग चर्चा कर रहे थे कि सरकार मेरे जैसे दिहाड़ी श्रमिकों को ऋण-अनुदान पर पक्के मकान बनाकर दे रही है। एक श्रमिक ने इशारा कर बताया कि सागरताल के समीप जो बहुमंजिला इमारत दिखाई दे रही है, उसी में श्रमिकों के लिए सरकार ने फ्लैट बनवाए हैं। जगदीश ने उसी दिन मजदूरी से लौटते समय शाम को नजदीक से सागरताल के समीप बनी वह मल्टी देखी और उन्हें आशा की किरण भी नजर आई। वे बताते हैं कि नगर निगम के दफ्तर में मैंने भी पक्के मकान के लिए आवेदन भर दिया।

 

 

 

 

 

 

एकीकृत मलिन बस्ती कार्यक्रम के तहत बनाए गए मकानों के लिए प्राप्त हुए आवेदनों में से जब हितग्राहियों का अंतिम चयन हुआ, तो उसमें जगदीश का भी नाम था। गत 23 जून को मध्यप्रदेश के प्रवास पर आए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने जब इंदौर से जिन एक लाख लोगों को पक्के मकान का मालिक बनाया, उनमें जगदीश भी शामिल थे। ग्वालियर में बाल भवन में केन्द्रीय पंचायतीराज एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर तथा प्रदेश सरकार के मंत्री द्वय श्री जयभान सिंह पवैया व श्री नारायण सिंह कुशवाह ने जगदीश को फ्लैट की चाबी और आवंटन पत्र सौंपा।

 

 

 

 

 

मकान की चाबी लेने के बाद मंच की सीढ़ियों से उतरते वक्त जगदीश के पाँव खुशी से जमीन पर नहीं पड़ रहे थे। वे कहने लगे सपना हमने बुना और सरकार ने उसे साकार कर दिया। वे कहते हैं कि सागरताल के समीप बनी सर्वसुविधायुक्त मल्टी में अब अपने परिवार के साथ चैन से रहेंगे।

Check Also

बरसात से किसानों की कटी फसलों को नुकसान मक्का गिरी

राजगढ़/ मध्य प्रदेश राजगढ़ जिले  बरसात तथा हवा से किसानों को काफी नुकसान हुआ। सोयाबीन मक्का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.