Home / ब्रेकिंग न्यूज़ / सवा दो सौ से ज्यादा मरीजों का ऑपरेशन कराएगी सरकार
????????????????????????????????????

सवा दो सौ से ज्यादा मरीजों का ऑपरेशन कराएगी सरकार

 
उच्च स्तरीय स्वास्थ्य सेवायें मुहैया कराने के लिये सरकार कटिबद्ध – श्रीमती माया सिंह  जिला चिकित्सालय मुरार बना प्रदेश का पहला ई-अस्पताल  नगरीय विकास मंत्री ने किया ई-अस्पताल एवं मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सेवा शिविर का शुभारंभ  
 
ग्वालियर/ जिला चिकित्सालय मुरार प्रदेश का पहला ई-अस्पताल बन गया है। नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने 24 घंटे काम करने वाली कम्प्यूटराईज्ड एकल सुविधा खिड़की का फीता काटकर ई-अस्पताल का शुभारंभ किया। उन्होंने इस मौके पर जिला स्तरीय मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सेवा शिविर का शुभारंभ भी किया। श्रीमती माया सिंह ने इस अवसर पर कहा कि प्रदेश सरकार आर्थिक रूप से कमजोर मरीजों को विशेष शिविरों के माध्यम से उनके घर के नजदीक उच्च स्तरीय स्वास्थ्य सेवायें मुहैया करा रही है।  शुभारंभ कार्यक्रम की अध्यक्षता महापौर श्री विवेक नारायण शेजवलकर ने की। साडा अध्यक्ष श्री राकेश जादौन, कलेक्टर श्री राहुल जैन तथा सर्वश्री धर्मेन्द्र राणा, दिनेश दीक्षित व श्रीमती सपना नरवरिया सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण कार्यक्रम में मौजूद थे।   राज्य शासन के दिशा-निर्देशों के तहत राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम एवं राज्य बीमारी सहायता योजना के तहत गुरूवार को जिला चिकित्सालय मुरार में मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सेवा शिविर आयोजित किया गया। शिविर में कुल 1043 मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। इसमें से 167 बच्चों को राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत ऑपरेशन व उपचार के लिये चिन्हित किया गया है। इसी तरह राज्य बीमारी सहायता निधि से विभिन्न बीमारियों के इलाज व ऑपरेशन के लिये 69 मरीज चिन्हित किए गए।
स्वास्थ्य परीक्षण के लिये चिरायु अस्पताल व सिद्धांता रेडक्रॉस अस्पताल भोपाल, टेस्टट्यूब बेबी सेंटर भोपाल, आर्टमस अस्पताल गुडगाँव, रतन ज्योति अस्पताल ग्वालियर व अग्रवाल हॉस्पिटल ग्वालियर तथा ग्वालियर मेडीकल कॉलेज के चिकित्सकों की टीम ने इस शिविर में मरीजों की जाँच कर उपचार किया। शिविर में चिन्हित मरीजों का इलाज व ऑपरेशन राज्य बीमारी सहायता निधि से कराया जायेगा। साथ ही शिविर में चिन्हित 18 वर्ष तक के बच्चों का इलाज व ऑपरेशन भी सरकार की विभिन्न योजनाओं के तहत होगा।   नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने ई-अस्पताल एवं मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सेवा शिविर के शुभारंभ कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार ने स्वास्थ्य सेवाओं का बहुत बड़ा नेटवर्क तैयार किया है।
सरकार ने मरीजों के स्वास्थ्य की जाँच के लिये अत्याधुनिक मशीनों का प्रबंध भी किया है। इसी कड़ी में जल्द ही जयारोग्य चिकित्सालय में रीजनल लेबोरेटरी स्थापित होगी। केन्द्र सरकार से इसकी अनुमति मिल गई है। उन्होंने जानकारी दी कि जिला चिकित्सालय मुरार को 300 शैय्या के अस्पताल में तब्दील करने की प्रशासनिक अनुमति राज्य शासन द्वारा जारी कर दी गई है। जल्द ही वित्तीय अनुमति भी दिलाई जायेगी। इसके बाद अस्पताल के विस्तार का काम शुरू हो जायेगा। श्रीमती माया सिंह ने कहा कि दीनदयालनगर में भी डिस्पेंसरी की स्थापना के लिये जमीन चिन्हित हो गई है। जल्द ही यहाँ डिस्पेंसरी निर्माण का काम शुरू होगा।   महापौर श्री विवेक नारायण शेजवलकर ने कहा कि मध्यप्रदेश की स्वास्थ्य सेवाओं की प्रगति पूरे देश के लिये उदाहरण बनी है। उन्होंने कहा जिस देश का बचपन स्वस्थ होगा, वह देश भी स्वस्थ होगा। प्रदेश सरकार द्वारा इसी सोच के साथ स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाया जा रहा है। श्री शेकवलकर ने आशा व्यक्त की कि जिला चिकित्सालय मुरार ग्वालियर ही नहीं अन्य जिलों के मरीजों के लिये भी अत्यंत उपयोगी साबित होगा।
कलेक्टर श्री राहुल जैन ने कहा कि पिछले दो माह के दौरान जिले के हर विकासखण्ड में गंभीर बीमारियों से पीड़ित मरीजों को चिन्हित करने के लिये विशेष अभियान चलाया गया। अभियान के जरिए चिन्हित मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सेवा शिविर में कराया गया है। उन्होंने बताया कि राज्य बीमारी सहायता योजना में शामिल 17 गंभीर बीमारियों से पीड़ित मरीजों का नि:शुल्क ऑपरेशन निर्धारित पैकेज के तहत कराया जायेगा। इस अवसर पर उन्होंने यह भी जानकारी दी कि ग्वालियर जिले को दिव्यांग मित्र बनाने के लिये विशेष प्रयास किए जा रहे हैं। इस कड़ी में छूटे हुए दिव्यांगों व वृद्धजनों को चिन्हित करने के लिये 23 जनवरी को मुरार व डबरा, 24 जनवरी को भितरवार व जेएएच परिसर तथा 25 जनवरी को बरई में दिव्यांगों व बुजुर्गों की सहायतार्थ शिविर लगाए जायेंगे। इन दिव्यांगों को 11 फरवरी को प्रस्तावित मेगा शिविर में कृत्रिम अंग व उपकरण वितरित किए जायेंगे।   मंत्री श्रीमती माया सिंह ने शिविर परिसर में लगाए गए विभिन्न काउण्टर और हैल्थ रोबोट का जायजा लिया। स्मार्ट सिटी के तहत यह रोबोट प्रदर्शन बतौर लगाया गया था, जिसके द्वारा 23 प्रकार की खून व 10 प्रकार की यूरिन जाँचें त्वरित की जा सकती हैं।
स्वागत उदबोधन मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एस एस जादौन ने और कार्यक्रम के अंत में सिविल सर्जन डॉ. व्ही के गुप्ता ने आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम का संचालन श्री एस बी ओझा ने किया।
इन बीमारियों से पीड़ित मरीजों की हुई जाँच
राज्य बीमारी सहायता निधि के तहत चिन्हित गंभीर बीमारियों मसलन कैंसर, हिप, ज्वॉइंट व घुटना रिप्लेसमेंट, हृदय रोग, स्पाइनल सर्जरी, रेटीनल डिटेचमेंट, प्रसवोत्तर, जटिलतायें, ब्रेन व न्यूरो सर्जरी, एप्लास्टिक एनीमिया, क्रॉनिक रीनल डिसीजेज, बाँझपन इत्यादि से पीड़ित मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। इसी तरह राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत जन्म से 18 वर्ष तक के बच्चों का भी स्वास्थ्य परीक्षण शिविर में हुआ। खासतौर पर हृदय ऑपरेशन, कान में कॉक्लियर इम्प्लांट, कटे-फटे होंठ, जन्मजात मोतियाबिंद, तीव्र  कुपोषण, टेड़े-मेड़े पैर, भेंगापन, न्यूरोन टयूब विकृति इत्यादि बीमारियों से पीड़ित बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण कर उन्हें ऑपरेशन के लिये चिन्हित किया गया।
घर बैठे ले सकेंगे डॉक्टर से अपॉइंटमेंट  
जिला चिकित्सालय मुरार में इलाज कराने के लिये मरीज अब घर बैठे ही ऑनलाइन पंजीयन कराकर चिकित्सक से अपॉइंटमेंट ले सकेंगे। मरीजों को जाँच रिपोर्ट एसएमएस व ईमेल पर मिलेगी। उनका इलेक्ट्रोनिक मेडीकल रिकॉर्ड भी रहेगा। अर्थात मरीज को बार-बार पंजीयन कराने की जरूरत नहीं होगी। ई-अस्पताल में एनआईसी द्वारा तैयार वही सॉफ्टवेयर इस्तेमाल हो रहा है, जो एम्स सहित देश के बड़े-बड़े अस्पतालों में उपयोग होता है। ई-अस्पताल के सॉफ्टवेयर पर ऑनलाइन ब्लड बैंक की उपलब्धता भी जान सकेंगे। इस सॉफ्टवेयर की यह भी खासियत है कि ग्वालियर के ई-अस्पतल में पंजीयन कराने वाले मरीज का पूरा रिकॉर्ड देश के अन्य बड़े अस्पतालों मे ऑनलाइन देखा जा सकेगा।

Check Also

बस व ट्रक में भिड़ंत, चार यात्री गंभीर

कोरबा । छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले में मंगलवार को बस और ट्रक की भिड़ंत हो …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.