Home / ब्रेकिंग न्यूज़ / अनवर मियाँ अब ड्रायवर नहीं, ई-ऑटो के मालिक हैं

अनवर मियाँ अब ड्रायवर नहीं, ई-ऑटो के मालिक हैं

स्कूली बच्चों को लेकर कोई ऑटो रिक्शा बगल से गुजरता तो अनवर मियाँ उसे कातर निगाहों से निहारते। उनके मन में टीस उठती कि काश मेरे पास भी एक ऑटो होता। अनवर एक निजी स्कूल की बस चलाते थे। रोज सुबह बच्चों को स्कूल ले जाना और उन्हें वापस पहुँचाकर सांझ ढले घर लौटना उनकी नित्य-प्रत्य की दिनचर्या थी। इसी से उनके परिवार की रोजी-रोटी चलती थी। वे दिन रात सोचते रहते कि अगर एक ऑटो रिक्शा की जुगाड़ हो जाए तो हम ज्यादा कमा भी लेंगे और पूरे दिन घर से बाहर भी नहीं रहना पड़ेगा।

 

 

 

 

मगर परिवार की माली हालत ऐसी न थी कि वे ड्रायवर से वाहन मालिक बन जाएँ।   अवाड़पुरा इन्द्रानगर ग्वालियर निवासी अनवर खान अब ई-ऑटो के मालिक बन गए हैं। “मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना” से उनकी वर्षों पुरानी हसरत पूरी हुई है। अनवर के परिवार का नाम गरीबी रेखा के नीचे जिंदगी बसर कर रहे परिवारों में शुमार था। उन्हें किसी ने बताया कि दीनदयाल राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन (एनयूएलएम) के तहत उन जैसे आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों को स्वरोजगार के लिये मदद मिलती है।

 

 

 

अनवर ने भी नगर निगम के कार्यालय में पहुँचकर अपनी अर्जी लगाई। यहीं से उनकी जिंदगी के खुशनुमा पल शुरू हो गए। एनयूएलएम के तहत मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना से उनका प्रकरण तैयार हुआ और जल्द ही इलाहबाद बैंक ने उनका प्रकरण मंजूर कर दिया।   जिला प्रशासन की पहल पर गत अक्टूबर माह में संभागीय ग्रामीण हाट बाजार में ऋण वितरण मेला लगाया गया।

 

 

 

उस मेले में कलेक्टर श्री राहुल जैन ने जब अनवर मियाँ को “ई-ऑटो” की चाबी सौंपी तो उनकी आँखे छलक आईं। उन्हें एक लाख 70 हजार रूपए की लागत से “ई-ऑटो” मिला है। इसमें प्रदेश सरकार द्वारा मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के तहत दी गई 34 हजार रूपए की अनुदान राशि शामिल है।   अब अनवर मियाँ स्कूली बच्चों को स्कूल और उनको घर वापस छोड़कर अच्छी खासी कमाई कर लेते हैं। स्कूल समय के अलावा सवारियाँ ढोकर अलग से भी कमाई कर लेते है। उनके दो बेटी व एक बेटा है।

 

 

अनवर अपनी ऑटो से पद्मा स्कूल में बड़ी बिटिया और छोटी बिटिया को बजरिया स्कूल तक छोड़ आते हैं। तो छुट्टी के दिन कभी तिघरा तो कभी फूलबाग में अपने पूरे परिवार को बिठाकर पिकनिक मनाने निकल जाते हैं। अनवर भावविभोर होकर कहते हैं कि सच में प्रदेश में गरीब हितैषी सरकार काबिज है।

-हितेंद्र भदौरिया   

Check Also

बहन की शादी में शामिल होने आए युवक की नदी में डूबने से मौत

जमुई.बिहार के जिमुई जिले में बुधवार सुबह नदी में डूबने से एक युवक की मौत …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *