Home / राज्य / पश्चिम बंगाल / देश का सबसे महंगा दुर्गा पंडाल, बाहुबली के माहिष्मती महल जैसा

देश का सबसे महंगा दुर्गा पंडाल, बाहुबली के माहिष्मती महल जैसा

कोलकाता/सूरत.देशभर में मां दुर्गा की आराधना का पर्व शुरू हो चुका है। पश्चिम बंगाल की दुर्गा पूजा भव्य पंडालों के लिए मशहूर है। इस बार कोलकाता में अलग-अलग थीम पर मां दुर्गा के 3 हजार पंडाल बनाए गए हैं। इसमें एक पंडाल ऐसा भी है, जिसे बनाने में 10 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं। यह पंडाल फिल्म बाहुबली-2 में माहिष्मती के महल की तर्ज पर बना है। इसकी ऊंचाई 110 फीट है। सीएम ममता बनर्जी ने इसे देश का सबसे महंगा पंडाल होने का सर्टिफिकेट दिया है। उधर, गुजरात के सूरत में नवरात्रि के पहले दिन एशिया के सबसे बड़े गरबा में 7 हजार लोग शामिल हुए।
– कोलकाता में लेक टाउन के पास श्रीभूमि स्पोर्टिंग क्लब ने भव्य पंडाल बनाया है। इसे 150 कलाकारों ने तीन महीने में बनाकर तैयार किया। क्लब के सचिव डीके गोस्वामी ने बताया कि दुनियाभर में फिल्म बाहुबली को मिली पब्लिसिटी को देखते हुए हमने इस थीम पर पंडाल बनाया है। यह पंडाल शुक्रवार से भक्तों के लिए खुलेगा।
– सोने से दमकते माहिष्मती महल के मुख्य द्वार पर सूंड उठाए हुए दो हाथी भी बनाए गए हैं। थोड़ा आगे बढ़ने पर ही 8 दरबान खड़े हुए हैं। महल के अंदर प्रवेश करने पर एक बड़ा सा झूमर और मां दुर्गा की सोने-चांदी और हीरे-जवाहरात से सजी प्रतिमा है। 110 फीट ऊंची झांकी की सिक्युरिटी में 300 जवान तैनात हैं।
सूरत में एशिया का सबसे बड़ा गरबा
गुजरात का गरबा महोत्सव दुनिभाभर में मशहूर है। सूरत में ऑडियंस की तादाद के लिहाज से एशिया के सबसे बड़े गरबा में नवरात्रि के पहले दिन गुरुवार को 7000 लोग रास में रमे। 600-600 लोगों के 12 समूह अलग-अलग पहनावे में रात 1 बजे तक गरबा का लुत्फ लिया। पूरे सूरत शहर में गुजराती लोक नृत्य गरबा की रंगत शुरू हो चुकी है।
– सूरत में ही स्केटिंग गरबा आकर्षण का केंद्र है। इसको लेकर युवाओं में काफी जोश है। वे स्केट्स के सहारे डोढ़िया, तिकड़ी और छकड़ी जैसे स्टेप पर डांडिया खेल रहे हैं।
– शहर के एक गरबा में एलईडी लगी चणिया-चोली बनाई गई हैं, जो मोशन-सेंसर लगे होने से गरबा के दौरान जलती हैं। अहमदाबाद में दिव्यांगों के लिए खास गरबा हो रहा है।
मुंबई, रायपुर में नॉइज पॉल्यूशन रोकने के लिए साइलेंट गरबा
– मुंबई और रायपुर में इस बार नए अंदाज में गरबा हो रहा है। यहां डांडिया के लिए बड़े-बड़े साउंड सिस्टम नहीं लगे हैं। बल्कि लोग वायरलेस हेडफोन पर गाना सुनकर गरबा खेल रहे हैं। इसका मकसद, नॉइज पॉल्यूशन को कम करना है। मुंबई के मलाड वेस्ट में राजमहल बैंक्वेट साइलेंट गरबा का आयोजन हो रहा है।

Check Also

नही रहे विंध्य के सियासी शेर श्रीनिवास तिवारी,मप्र की पहली विधानसभा में बने थे सबसे कम उम्र के विधायक

रीवा । कॉंग्रेस के वरिष्ठ नेता व मध्यप्रदेश विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष श्री निवास तिवारी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *