Home / देश / सिद्धि विनायक जहाँ अमिताभ और सलमान यहां मांगते हैं मन्नत, बिग बी आ चुके हैं नंगे पांव

सिद्धि विनायक जहाँ अमिताभ और सलमान यहां मांगते हैं मन्नत, बिग बी आ चुके हैं नंगे पांव

मुंबई.पूरे देश में गणेशोत्सव की धूम है। इस मौके पर मुंबई के फेमस सिद्धिविनायक मंदिर में विशेष तैयारियां की गई हैं। इस मंदिर की छत पर सोने का छत्र लगाया गया है। यहां अमिताभ बच्चन, सलमान खान, एक्ट्रेस ऐश्वर्या, करीना कपूर, प्रियंका चोपड़ा, कंगना से लेकर क्रिकेटर युवराज सिंह और सचिन तक कई सितारे मन्नत मांगने आते हैं। यहां आने वाले वीवीआईपी भक्तों के कारण इन्हें सेलेब्रिटीज के गणपति भी कहा जाता है। महानायक अमिताभ बच्चन अपनी फैमिली के साथ यहां नंगे पांव दर्शन के लिए आ चुके हैं।
एक मन्नत पूरी होने पर साल 2008 में अमिताभ बच्चन बेटे अभिषेक और बहु ऐश्वर्या के साथ पैदल अपने जुहू स्थित बंगले से 15 किलोमीटर का सफर पैदल नंगे पांव चलकर सिद्धिविनायक पहुंचे थे। वे पूरे आधा घंटा मंदिर में रहे थे और पूजा भी की थी। फिल्म ‘कुली’ की शूटिंग के दौरान अमिताभ घायल हो गए थे। जिसके बाद उन्हें मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। उस दौरान लगभग रोज जया बच्चन ब्रीच कैंडी अस्पताल से सिद्धि विनायक मंदिर तक पैदल जाया करती थीं।,
200 साल पुराना है मंदिर…
हिन्दू पंचांग के अनुसार यह तिथि दुर्मुख संवत्सर में कार्तिक शुद्ध चतुर्दशी, शक 1723 को आती है। यह मन्दिर मुंबई के प्रभादेवी में काकासाहेब गाडगिल मार्ग और एसके बोले मार्ग के कोने पर स्थित है। इस मंदिर को लेकर यह मान्यता है कि यहां जो भी मन्नत मांगी जाती है, वह पूरी होती है। मंदिर के अंदर एक छोटे मंडपम में भगवान गणेश के सिद्धिविनायक रूप की प्रतिमा प्रतिष्ठापित की गई है।
छत पर लगा है सोने का लेप
सिद्धिविनायक गणेश मंदिर के अंदर की छतें सोने के लेप से सुसज्जित की गई हैं। भगवान गणेश के ऊपर लगे सोने के छत्र का वजन 3.5 किलो है। इसे मुंबई का सबसे धनी मंदिर माना जाता है।
शिखर पर लगे हैं स्वर्ण जड़ित मुकुट
पिछले दो दशकों में इस मंदिर का कई बार पुनर्निर्माण हो चुका है। – वर्तमान में मंदिर की इमारत पांच मंजिला है और करीब 20 हजार वर्गफीट में फैली है। मंदिर का शिखर मुकुटों का एक समूह है, जिसमें 12 फीट के 47 स्वर्ण जड़ित मुकुट, नौ फीट के तीन और 33 फीट के तीन मुकुट हैं। मंदिर के दरवाजों पर अष्टविनायक को दिखाया गया है। यहां मकराना का मार्बल लगाया गया है।
ऐसी है सिद्धिविनायक की प्रतिमा
ऐसी मान्यता है कि श्री सिद्धिविनायक की प्रतिमा एकल काले पत्थर को तराशकर बनाई गई थी। गणेश प्रतिमा की ऊंचाई करीब 750 मिमी और चौड़ाई 600 मिमी है। इस मूर्ति में गणेशजी की सूंड दाहिनी ओर है। यह गणेशजी की बहुत ही दुर्लभ मुद्रा है। जिस प्रतिमा में गणेशजी की सूंड दाहिनी ओर हो, उसे महागणपति कहते हैं। गणेशजी के ऊपर वाले दाहिने हाथ में कमल और बाएं हाथ में परशु स्थित है। नीचे वाले दाहिने हाथ में जपमाला और और बाएं हाथ में मोदक से भरा पात्र है। मूर्ति के माथे पर एक नेत्र है जो कि शिवजी के त्रिनेत्र की तरह दिखता है। गणेशजी के दोनों ओर ऋद्धि और सिद्धि की प्रतिमाएं हैं जो कि गणेश के पीछे की ओर से झांकती हुई दिखाई देती है। भगवान गणेश की मूर्ति के साथ इन दोनों देवियों की मूर्तियों के कारण ही इस मंदिर का नाम सिद्धिविनायक गणपति मंदिर है।

साभार

Check Also

बहन की शादी में शामिल होने आए युवक की नदी में डूबने से मौत

जमुई.बिहार के जिमुई जिले में बुधवार सुबह नदी में डूबने से एक युवक की मौत …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *