Home / देश / हरियाणा में 50 डेरे सील,पंजाब में 92 नाम चर्चाघर खाली कराए गए

हरियाणा में 50 डेरे सील,पंजाब में 92 नाम चर्चाघर खाली कराए गए

चंडीगढ़। सिरसा में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह के समर्थकों की हिंसा के बाद हरियाणा के तमाम नामचर्चा घर सील कर दिए गए हैं। शनिवार शाम तक 50 सील कर दिए गए थे। वहीं, पंजाब के डीजीपी सुरेश अरोड़ा ने नाम चर्चा घरों को सील करने से मना किया है। हालांकि पंजाब के  92 चर्चाघरों को खाली करवा लिए गए हैं और वहां सुरक्षा बढ़ा दी गई है।  इस बीच. सेना ने डेरा मुख्यालय (सिरसा) की घेराबंदी कर दी है। हिंसा में मृतकों की संख्या 36 हो गई है। सिरसा में चार और लोगों ने दम तोड़ दिया। उधर, सेना ने सिरसा स्थित डेरा मुख्यालय पर घेरा बना लिया है। शुक्रवार को दोषी करार दिए गए डेरा प्रमुख को सीबीआइ की अदालत सेामवार को सजा सुनाएगी। इसके लिए रोहतक स्थित सुनारिया जेल में कोर्ट लगाई जाएगी। जजों को हवाई मार्ग से ले जाया जाएगा।  पहले से थी हिंसा की तैयारी  हरियाणा सरकार के पास खुफिया रिपोर्ट पहुंची है कि हिंसा की पूरी प्लानिंग नामचर्चा घरों में ही की गई थी। चार दिनों से पंचकूला में जमा डेरा समर्थकों के लिए नामचर्चा घरों से खाना बनकर आता था और खाना देकर जाने वाले व्यक्ति इन डेरा समर्थकों को नए दिशा-निर्देश देकर जाते थे। नाम चर्चा घरों से बड़ी मात्र में पेट्रोल बम, मिर्च स्प्रे, हथियार व लाठियां बरामद हुई हैं। कई जगहों इंटरनेट सेवा व बस सेवा बहाल कर दी है।  सेना ने सिरसा में डेरा सच्चा सौदा मुख्यालय पर घेरा बढ़ा दिया है। सेना शाह सतनाम चौक से पुराने डेरे तक पहुंच गई है। क्षेत्र को सील कर दिया है। डेरा प्रेमियों से बाहर निकल जाने को कहा जा रहा है अन्यथा गोली मारने के आदेश की चेतावनी भी दी जा रही हैे।  उधर, पंजाब में कल की घटनाओं के मद्देनजर पंजाब में पुलिस प्रशासन ने शनिवार को 92 डेरे (नाम चर्चा घर) खाली करवाकर उनके बाहर सुरक्षा बलों को तैनात कर दिया है। प्रदेश में 38 डेरा प्रेमी गिरफ्तार किए गए हैं। मुक्तसर में डेरा प्रेमियों से 14 पेट्रोल बम बरामद किए गए। प्रदेश में 270 से अधिक डेरा प्रेमियों पर केस दर्ज किया गया है। प्रदेश में शनिवार को कहीं से भी हिंसा-आगजनी की कोई खबर न मिलने से सरकार ने राहत की सांस ली है। एहतियात के तौर पर नौ जिलों में सेना अभी तैनात रहेगी। इंटरनेट व एसएमएस पर रोक सरकार ने मंगलवार तक बढ़ा दी है। पीआरटीसी ने चार डिपों से बस संचालन रविवार से शुरू करने की घोषणा की है।   गार्डो ने शुरू की थी हिंसा, 8 पर देशद्रोह का केस  पंचकूला में हिंसा की शुरुआत डेरा प्रमुख के सिक्योरिटी गार्डो ने आइजी से र्दुव्‍यवहार कर की थी। इसी बीच डेरा प्रमुख को जेल ले जाने से मना करने वाले 8 सुरक्षा गार्डो जिनमें 6 सरकारी व दो निजी हैं पर देशद्रोह का केस दर्ज किया है। जेड सुरक्षा भी वापस हो गई है। छह अन्य निजी सुरक्षा गार्डो पर भी केस दर्ज किया गया है। पुलिस ने आठ एफआइआर दर्ज कर 524 को गिरफ्तार किया है। इनसे एक एके 47, माउजर, 5 पिस्टल व दो राइफल बरामद हुईं।  राम रहीम कैदी नंबर 1997  गुरमीत राम रहीम सिंह अब रोहतक की सुनारिया जेल का कैदी नंबर 1997 है। उसे जेल में दो से 3 कैदियों के साथ रखा गया है। डीजीपी जेल डॉ. केपी सिंह के राम रहीम को किसी वीआइपी ट्रीटमेंट से इन्कार किया है।  गुरमीत का भतीजा डिप्टी एजी बर्खास्त  अदालत में पेशी के दौरान दुष्कर्म के दोषी डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम का बैग उठाने वाले हरियाणा के डिप्टी एडवोकेट जनरल डेरा मुखी के भतीजे गुरदास सिंह सलवारा को प्रदेश सरकार ने बर्खास्त कर दिया है। नियम के विरुद्ध उन्होंने राम रहीम का सामान उठाया था।  संघर्ष अभी खत्म नहीं : प्रेमी  पंचकूला में हिंसा के बाद वापस लौटे डेरा प्रेमियों का कहना है कि उन्हें न्याय नहीं मिला है। न्याय मिलने तक उनका संघर्ष जारी रहेगा। बरनाला पहुंचे डेरा प्रेमी बलजीत सिंह ने कहा कि संघर्ष कुछ वक्त के लिए स्थगित किया है समाप्त नहीं। डेरा प्रमुख को झूठे केस में फंसाया गया है। न्याय के लिए रणनीति के तहत दोबारा संघर्ष किया करेंगे। मुक्तसर के गांधी नगर की चालीस वर्षीय सोनिया गर्ग ने कहा कि डेरा प्रमुख को साजिश के तहत फंसाया है। 45 सदस्यीय कमेटी के फैसले अनुसार ही संघर्ष छेड़ा जाएगा। सोनिया ने कहा कि हिंसा डेरा प्रेमियों ने नहीं भड़काई बल्कि वहां पर कुछ शरारती तत्वों जो कि मुंह बांधे हुए थे ने यह कृत्य किया।  हाई कोर्ट ने कहा यह खट्टर सरकार का पॉलीटिकल सरेंडर  पंजाब एवं हरियाणा हाइकोर्ट ने उपद्रव को पॉलिटिकल सरेंडर करार देते हुए खट्टर सरकार को कड़ी फटकार लगाई। सुनवाई शुरू होते ही कोर्ट ने कहा कि तोडफ़ोड़ व आगजनी के अलावा भी बसें व रेल बंद होने के कारण अप्रत्यक्ष तौर पर काफी नुकसान हुआ है। बेंच ने कहा कि राज्य सरकार ने महज अपने वोट बैंक के लिए डेरा समर्थकों के आगे एक तरह से सरेंडर ही कर दिया। सुरक्षा के जो इंतजाम किए गए थे, उससे तो यही साबित हुआ है।  वह डेरा समर्थकों की शहर में आ रही भीड़ को रोकने के लिए नहीं बल्कि उनको न्योता देने के लिए किए गए। सख्ती तो हाईकोर्ट के आदेशों के बाद ही की गई। कोर्ट ने हरियाणा से कहा कि सीबीआइ कोर्ट के फैसले के बाद आपको यह तो पता चल गया था कि डेरा समर्थकों के बीच असामाजिक तत्व घुस गए हैं, लेकिन यह समझने में असफल रहे कि इतनी संख्या में डेरा समर्थक पंचकूला कैसे पहुंचे।  हाईकोर्ट ने पूछा कि क्या कैबिनेट मंत्री रामबिलास शर्मा व अनिल विज ने डेरा को 50 लाख रुपये का अनुदान दिया था। हाईकोर्ट ने डेरा मुखी को जेल में स्पेशल ट्रीटमेंट देने की खबरों पर भी अच्छी क्लास ली। हालांकि सरकार ने इससे इन्कार किया है।

Check Also

स्कूल बस हादसे में मरने वाले बच्चों की संख्या 18 हुई, सीएम योगी पहुंचे

कुशीनगर। उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में गुरुवार सुबह हुए स्कूल बस हादसे में मरने वाले बच्चों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *