Home / राज्य / पंजाब / केएलएफ आतंकवादियों की गिरफ्तारी से मप्र पुलिस और एटीएस की चिंता बढ़ीं

केएलएफ आतंकवादियों की गिरफ्तारी से मप्र पुलिस और एटीएस की चिंता बढ़ीं

ग्वालियर। देश विरोधी खालिस्तान लिबरेशन फ्रंट से जुड़े तीन लोगों के ग्वालियर में पकडे जाने से मप्र पुलिस और एटीएस की चुनौतियाँ बढ़ गयी है। इससे जाहिर होता है कि केएलएफ अब मप्र में फिरअपने पैर पसार रहा है। पंजाब में जब आतंकी आंदोलन जोर पर था तब इस अंचल में कई आतंकियों ने पनाह पायी थे। कुख्यात आतंकी मारे भी गए थे जबकि कुख्यात आतंकी हरजिंदर सिंह ज़िंदा की भी इस अंचल में मौजूदगी देखी गयी थी लेकिन उसके बाद इस इलाके में शान्ति थी लेकिन अब इन गिरफ्तारियों ने एक बार फिर चिंता में डाल दिया है। गिरफ्तार आरोपियों में मुख्य बलकार सिंह बताया गया है जिसके तार पंजाब के केएलएफ ही नहीं इसके विदेश में फैले रैकेट से जुड़े बताये गए हैं। 
पंजाब एटीएस और वहां  की पुलिस ने कल मप्र एटीएस के साथ मिलकर अत्यंत गोपनीय और सफल ऑपरेशन चलाया। इसमें तीन लोगों को उठाया जिनमें मुख्य आरोपी बलकार सिंह निवासी ग्राम ररुआ थाना चीनौर ,बलविंदर सिंह  निवासी सालवायी थाना डबरा और सत्येंद्र उर्फ़ छोटे  रावत निवासी डबरा को थाटीपुर ग्वालियर से दबोचा गया। इसके बाद पुलिस और एटीएस इनको लेकर थाटीपुर थाने पहुँची और  औपचारिक कार्यवाही पूरी करके रात दो बजे इन्हें लेकर पंजाब रवाना हो गयी। 
अब तक की तफ्शीश  से पता चला कि मई में पंजाब में गैरकानूनी काम करने का एक केस दर्ज हुआ था जिसमें बलकार सिंह को भी नामजद किया गया था। वहां की पुलिस और एटीएस तबसे इसका पीछा कर रही है। इसके बाद इस मामलेमें वहां कुछ आरोपियों की गिरफ्तारी हुई तो उनके जरिये हथियार बेचने वालों के रूपमें बलकार सिंह और छोटू रावत का नाम आया। इसके बाद से पंजाब पुलिस इनके फोन कॉल्स पर निगाह रखने लगी और यह सम्पर्क निरंतर पाए गए। इसके बाद पंजाब पुलिस की टीम जिसमें एक डीएसपी ,तो निरीक्षक सहित लगभग दस लोग शामिल थे ,परसों रात यहाँ पहुंचे। उन्होंने मप्र एटीएस से पहले ही समन्वय कर रखा था। दिन भर ऑपरेशन चला और रात बारह बजे थाटीपुर थाना पुलिस से संपर्क किया और कार्यवाही पूरी करने के बाद तीन गाड़ियों के साथ  पंजाब रवाना हो गयी। इन लोगों ने केएलएफ से जुड़े आतंकियों को हथियार सप्लाई  किये थे।
photo- file
 

Check Also

नही रहे विंध्य के सियासी शेर श्रीनिवास तिवारी,मप्र की पहली विधानसभा में बने थे सबसे कम उम्र के विधायक

रीवा । कॉंग्रेस के वरिष्ठ नेता व मध्यप्रदेश विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष श्री निवास तिवारी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *